दोष / अवगुण

आलस्यं मदमोहौ च चापलं गोष्ठिरेव च ।        शतब्धता चाभिमानित्वं तथात्यागित्वमेव च ।।        एते वै सप्त दोषाः स्युः सदा विद्यार्थिनां मताः ।।      …

दुःख / कष्ट

अपां मध्ये तस्थिवांसं तृष्णाविदज्जरितारम् ।         मृळा सुक्षत्र मृळय ।।                                  …

दुष्ट / क्रूर / निर्दयी

अतिक्रामेम दूढयो ।                              (ऋग्वेद 1/105/6) दुष्टों को आगे मत बढ़ने दो यानी उनकी उन्नति में सहायक न बनो । मा शपन्तं प्रति वोचे देवयन्तम् ।        …

दान / दक्षिणा

उतो रयिः पृणतो नोप दस्यति ।                                                (ऋग्वेद 10/117/1) दान देने वाले की संपदा घटती नहीं बढ़ती है ।  यानीयत्कार्यों में लगाया धन, बैंक में जमा पूंजी के समान बढ़ता…