कर्म

कर्ममर्त्या हवाअग्ने देवा आसुः ।                                                     (शतपथ ब्राह्मण 11/1/2/12) मनुष्य शुभकर्म करके देव बनते हैं । कुर्वन्नेवेह कर्माणि जिजीविषेच्छतं समाः ।          एवं त्वयि नान्यथेतोअस्ति न कर्म…

  ऊँ / ओउम्

ओमिति ब्रह्म । ओमितीय सर्वम् ।।                                                             (तैतेरीयोपनिषद् 1/8) प्रणव (ऊँ) यह ब्रह्म है । ऊँ ही यह संपूर्ण जगत् है । तस्य वाचकः प्रणवः ।                                  (पातंजलियोसूत्र 1/27) उस…

  उपासना / प्रार्थना

नास्ति वेदात् परं शास्त्रं नास्ति मातृसमो गुरुः ।          न धर्मात् परमो लाभस्तपो नानशनीत्परम् ।।                                                                                   (महाभारत / अनुशासनपर्व 106/65) वेद से बड़ा शास्त्र नहीं है, माता…

उत्साह / साहस / हिम्मत

अग्ने शर्ध महते सौभगाय । ऐश्वर्य उत्साही मनुष्य का पैर चूमता है अर्थात् जो व्यक्ति उत्साही और कर्मनिष्ठ है, उसके पास दरिद्रता कभी नहीं फटकती । निरुत्साहद् दैवं पतित ।…

ईश्वर / परमात्मा / भगवान्

एकं सद्विप्रा बहुधा वदन्ति ।                                                       (ऋग्वेद 1/164/46) एक ही परमात्मा को ज्ञानि लोग अनेक नामों से पुकारते हैं । अनेक नामों के देवता ईश्वर के ही विभिन्न नाम हैं…

इंद्रियाँ

रथः शरीरं पुरूषस्य राजन्नात्मा नियन्तेन्द्रियाण्यस्य चाश्वाः।           तैरप्रमत्तः कुशली सदश्वैर्दान्तैः सुखं याति रथीव धीरः ।।                      …

आलस्य / आलस

इच्छन्ति देवाः सुन्वन्तं न स्वप्नाय स्पृहयन्ति ।          यन्ति प्रमादमतन्द्राः  ।।                                …

आचरण / व्यवहार

आचारात्प्राप्यते स्वर्गमाचारात्प्राप्यते सुखम् ।          आचारात्प्राप्यते मोक्षमाचारात्किं न लभ्यते ।।                                                       (नारदपुराण/पूर्वभाग 4/27) आचार से स्वर्ग मिलता है । आचार से सुख मिलता है । आचार से…

आत्मा

न वा उ एतन्म्रियसे न रिष्यसि ।                                           (यजुर्वेद 23/16) आत्मा न कभी वरती है, न कभी नष्ट होती है । तमेव विद्वान् न विभाय मृत्योः । उस आत्मा के…

अग्निहोत्र / हवनकर्म

  अग्निहोत्रं च जुहुयादाद्यन्ते द्यु निशो सदा ।                                                     (मनुस्मृति / गृहस्थ 3/25) दिन तथा रात्रि के आदि अंत में अर्थात् प्रातः और सायं सदा अग्निहोत्र में हवन करना चाहिए…