• अनुकोशो हि साधूनां महद्धर्मस्य लक्षणम् ।

                                                          (महाभारत / अनुशासनपर्व 5/24)

सज्जन पुरुषों के लिए दया करना ही महान् धर्म का लक्षण है ।

  • परे वा बन्धुवर्गे वा मित्रे द्वेष्ये रिपौ तथा ।

          आपन्ने रक्षितव्यं हि दयैषा परिकीर्तिता ।।   

                                                          (अत्रिस्मृति 41)

दुसरों में हो, बन्धु-बान्धवों में, मित्रों में या द्वेष रखने वालों में अथवा वैरियों में हो, किसी को भी विपत्तिग्रस्त देखकर उलकी रक्षा करना ‘दया’ कहलाता है ।

  • पापानां वा शुभानां वा वधार्हाणामथापि वा ।

          कार्यं कारुण्यमार्येण न कश्चिन्नापराध्यति ।।

                                                    (वाल्मीकिरामायण / युद्धकांड 113/45)

श्रेष्ठ पुरुष को चाहिए कि कोई पापी हो या पुण्यात्मा अथवा वे वध के योग्य अपराध करने वाले ही क्यों न हों, उन सब पर दया करें, क्योंकि ऐसा कोई भी प्राणी नहीं है, जिससे कभी अपराध होता ही न हो ।

  • शान्तितुल्यं तपो नास्ति न सन्तोषात्परं सुखम् ।

          न तृष्णाया परो व्याधिर्न च धर्मों दया समः ।।

                                                              (चाणक्यनीति 8/13)

शांति के बराबर कोई तप नहीं, संतोष से बढ़कर दूसरा सुख नहीं, तृष्णा (लालच) से बड़ा कोई रोग नहीं और दया के बराबर कोई धर्म नहीं है ।

  • आनृशंस्यं परो धर्मः ।

                  (महाभारत / वनपर्व 213/30, वाल्मीकिरामायण / सुंदरकांड 38/39)

दया करना सबसे बड़ा धर्म है, यानी दया ही परम धर्म है ।

  • न हि प्राणैः प्रियतमं लोके किंचन विद्यते ।

          तस्मात् प्राणिदया कार्या यथाअत्मनि तथा परे ।।

                                                            (महाभारत / अनुशासन / दाक्षिणात्य 145)

संसार में प्राणों के समान प्रियतम दूसरी कोई वस्तु नहीं है । अतः समस्त प्राणियों पर दया करनी चाहिए । जैसे अपने ऊपर दया अभीष्ट होती है, वैसे ही दूसरों पर भी होनी चाहिए ।

  • दया धर्म का मूलहै, पाप मूल अभिमान ।

          तुलसी दया न छोड़िये, जब लगि घट में प्रान ।।

                                                                  (तुलसीदास)

दया धर्म का आधार है और अभिमान पाप का आधार है । अतः जब तक शरीर में प्राण है, तब तक दया नहीं छोड़नी चाहिए ।

  • अमित्रमपि चेद् दीनं शरणैषिणमागतम् ।

          व्यसने योअनुगृह्णाति स वै पुरुषसत्तमः ।।

                                                        (महाभारत / अनुशासनपर्व 59/10)

शत्रु भी यदि दीन होकर शरण पाने की इच्छा से घर पर आ जाए तो संकट के समय जो उस पर दया करता है, वही मनुष्यों में श्रेष्ठ है ।

  • अहिंसा सत्यमक्रोधस्त्यागः शान्तिपैशुनम् ।

          दया भूतेष्वलोलुप्त्वं मार्दवं हीरचापलम् ।।

                                                                     (श्रीमद्भगवद्गीता 16/2)

अहिंसा, सत्त्व, अक्रोध, त्याग, शांति, किसी की निन्दा न करना, सब प्राणियों (भूतों) के प्रति दया का भाव, निर्लोभता, कोमलता, लज्जा, व्यर्थ चेष्टाऔं का अभाव सभी दैवी संपदा हैं ।

  • यस्य चित्तं द्रवीभूतं कृपया सर्वं जन्तुषु ।

          तस्य ज्ञानेन मोक्षेण किं जटाभस्मलेपनैः ।।

                                                            (चाणक्यनीति 13/1)

जिसका हृदय सब जीवों पर दयाभाव से सर्वदा द्रवित हो जाता है, उसको ज्ञान, मोक्ष, जटा और भस्म लगाने से क्या?