• अतिक्रामेम दूढयो ।

                             (ऋग्वेद 1/105/6)

दुष्टों को आगे मत बढ़ने दो यानी उनकी उन्नति में सहायक न बनो ।

  • मा शपन्तं प्रति वोचे देवयन्तम् ।

                                                 (ऋग्वेद 1/41/8)

सत्कार्यों में विघ्न उत्पन्न करने वाले दुष्टों का बहिष्कार करो ।

  • सर्वान् दुरस्यतो हन्मि ।

                                (अथर्ववेद 4/36/4)

दुष्टता करने वालों के साथ संघर्ष करो यानी उनके साथ असहयोग, विरोध और संघर्ष की नीति अपनाओ ।

  • हृद्गतमाच्छाद्यान्यद्वदत्यनार्यः ।

                                           (चाणक्यसूत्र 548)

दुष्ट लोग मन की दुष्टता को तो छिपाए रखते हैं और केवल जीभ से अच्छी बातें करते हैं । मन से परपीड़न  आदि के उपाय सोचते हैं और वाणी से परोपकार, देश सेवा, साधुता आदि का बखान करते हैं ।

  • अशंकितमतिः स्वस्थो न शठः परिसर्पति ।

                                            (वाल्मीकिरामायण / युद्धकांड 17/63)

दुष्ट पुरुष कभी भी निर्भय बुद्धिवाला होकर सामने नहीं आ सकता है ।

  • मृदुं वै मन्यते पापो भाषमाणमशक्तिकम् ।

                                                (महाभारत / उद्योगपर्व 4/6)

पापी (दुष्ट) मनुष्य मधुर बोलने वाले को शक्तिहीन या डरपोक समझता है।

  • दुर्जनं सज्जनं कर्तुमुपायो न हि भूतले ।

       अपानं शपधा धौतं न श्रेष्ठमिन्द्रियं भवेत् ।।

                                                     (चाणक्यनीति 10/10)

दुष्ट मनुष्यों को सज्जन बनाने के लिए इस पृथ्वी पर कोई उपाय नहीं है । जैसे मल त्याग करने वाली इन्द्रियों को सौ-सौ बार धोए, पर वह इंद्रियों की करह शुद्ध नहीं हो सकती हैं ।

  • असंत्यागात् पापकृतामपापांस तुल्यो दण्डः स्पशते मिश्रभावात् ।

       शुष्केणार्द्रें दह्यते मिश्रभावात् तस्मात् पापैः सह सन्धिं न कुर्यात् ।।

                                                                                            (विदुरनीति 2/70)

पापाचारी दुष्टों का त्याग न करके उनके साथ मिले रहने से निरपराध सज्जनों को भी समान ही दंड प्राप्त होता है, जैसे सूखी लकड़ी में गीली लकड़ी मिल जाने से गीली लकड़ी भी जल कर नष्ट हो जाती है । इसलिए दुष्ट पुरुषों के साथ कभी मेल न करें ।

  • विषाग्नि सर्पशस्त्रेभ्यो न तथा जायते भयम् ।

        अकारणं जगद्वैरिखलेभ्यो जायते यथा ।।

                                                     (मत्स्यपुराण 210/3)

विष, अग्नि, सर्प तथा शस्त्र से भी संसार को उतना भय नहीं होता, जितना भय बिना कारण संसार के भयंकर शत्रु अर्थात् दुष्टों से होता है ।

  • दुर्जनः परिहर्तव्यो विद्ययाअलंकृतोअपि सन् ।

       मणिना भूषितः सर्पः किमसौ न भयंकरः ।।

                                                             (भर्तृहरि नीतिशतक 53)

विद्या से युक्त होने पर भी दुर्जन (दुष्ट) के साथ व्यवहार नहीं रखना चाहिए । मणि से विभूषित सर्प क्या भयंकर नहीं होता?

  • न दुर्जनः साधुदशामुपैति बहु प्रकारैरपि शिक्ष्यमाणः ।

       आमृलसिक्तः पयसाघृतेन न निम्बवृक्षौ मधुरत्वमेति ।।

                                                                         (चाणक्यनीति 11/6)

दुर्जन (दुष्ट) को कितना भी सिखाया जाए परंतु उसमें साधुता का प्रवेश नहीं हो सकता । जैसे नीम की जड़ को कितना भी दुध, घी से सींचों पर उसमें मीठापन (मधुरता) नहीं आ सकता ।

  • वरः क्रूरनिसर्गाणामहीनाममृतं यथा ।

                                                (श्रीमद्भागवत 7/10/30)

क्रूर स्वभाव वालों के लिए वरदान वैसा ही होता है, जैसा सांप के लिए अमृत ।

  • बरु भल बास नरक कर ताता ।

        दुष्ट संग जनि देइ बिधाता ।।

                                (श्रीमद्भागवत  7/10/30)

मात्र अपने सुख से सुखी और अपने दुःख से दुःखी होना दुष्टता है । नरकों में निवास बेशक हो जाए, पर ऐसे दुष्टों का संग विधाता न दें ।

  • अतो हास्यतरं लोके किंचिदन्यन्न विद्यते ।

       यत्र दुर्जनमित्याह दुर्जनः सज्जनं स्वयम् ।।

                                                    (महाभारत / आदिपर्व 74/95)

संसार में इससे बढ़कर हंसी की दूसरी बात नहीं हो सकती कि जो दुर्जन हैं, वे स्वयं दूसरों को दूर्जन कहते हैं ।

  • शास्त्रं न शास्ति दुर्बुद्धिं श्रेयते चेतराय च ।

                                                      (महाभापत / सभापर्व 75/7)

जिसकी बुद्धि खोटी है, उसे शास्त्र भी भला-बुरा कुछ भी नहीं सिखा सकता ।

  • प्रत्युष्टं रक्षः प्रत्युष्टा अरातयो निष्टप्त रक्षो निष्टता अरायतः ।

                                                                                              (यजुर्वेद 1/7)

विघ्नकारी दुष्ट को संतप्त करो । अदानी, अनुदान निर्दयी पुरुष को दंड दो । निर्दयी शत्रु खूब संतप्त हो ।

  • परस्वहरणे युक्तं परदाराभिमर्शकम् ।

        त्याज्यमाहुर्दरात्मानं वेश्म प्रज्जवलितं यथा ।।

                                                           (रामायण / युद्धकांड /87/22)

जो दूसरों का धन लूटता हो, और पराई स्त्री पर हाथ लगाता है, उस दुरात्मा को जलते हुए घर की भांति त्याग देना चाहिए ।