• अपां मध्ये तस्थिवांसं तृष्णाविदज्जरितारम् ।

        मृळा सुक्षत्र मृळय ।।

                                                           (ऋग्वेद 7/89/4)

दुःख का प्रमुख कारण है मनुष्य का अज्ञान । इसलिए उससे ऊंचे उठकर आत्म-ज्ञान प्राप्त करना चाहिए । इसी से संपूर्ण कामनाएं शांत होती हैं ।

  • तरत्ति शोकमात्मविद् ।

                               (छान्दोग्योपनिषद् 7/1/3)

स्वयं को जानने वाला शोक से दूर हो जाता है ।

  • भैषज्यमेतद् दुःखस्य यदेतन्नानुचिन्तयेत् ।

        चिन्त्यमानं हि चाभ्येति भूयश्चापि प्रवर्तते ।।

                                                         (महाभारत / शांतिपर्व 205/2)

दुःख को दूर करने के लिए सबसे अच्छी दवा यही है कि उसका चिंतन छोड़ दिया जाए, क्योंकि चिंतन से वह दुःख सामने आता है और अधिकधिक कष्ट को बढ़ाता है ।

  • शक्यमापतितः सोढुं प्रहारो रिपुहस्ततः ।

        सोढुमापतितः शोकः सुसूक्ष्मोअपि न शक्यते ।।

                                                (वाल्मीकिरामायण / अयोध्याकांड 62/16)

शत्रु के हाथ का प्रहार सहन करना संभव है, परंतु अचानक आ पड़ा अतिसुक्ष्म दुःख भी सहन करना असंभव है ।

  • स्वयमेव दुःखमधिमच्छति ।

                                           (चाणक्यसूत्र  504)

मनुष्य स्वयं ही अपने दुःख का कारण होता है, दुसरा नहीं ।

  • ईर्ष्यी घृणी न संतुष्टः क्रोधिनो नित्यशंकितः ।

       परभाग्योपजीवी च षडेते नित्यदुःखिताः ।।

                                                           (विदुरनीति 1/95)

ईर्ष्या करने वाला, घृणा करने वाला, असंतोषी, क्रोधी, सदा शंकित रहने वाला और दूसरों के भाग्य पर जीवन-निर्वाहकरने वाला – ये छह सदा सुखी रहते हैं ।

  • आशा हि परमं दुःखम् ।

                                 (श्रीमद्भागवत 11/8/44)

आवश्यकता से अधिक आशा रखना ही परम दुःख का मूल कारण है ।

  • संतोष परमास्थाय सुखार्थी संयतो भवेत् ।

        संतोषमूलं हि सुखं दुःखमूलं विपर्ययः ।।

                                                   (मनुस्मृति 4/12)

सुख चाहने वाले को चाहिए कि संयमित होकर दूसरों के संतोषरूपी गुण को अपनाए, क्योंकि सुख का मुख्य कारण संतोष ही होता है और उसका विरोध असंतोष दुःख का मूल करगण होता है ।

  • सुखस्यानन्तरं दुःखं दुःखस्यानन्तरं सुखम् ।

        सुखदुःखं मनुष्याणां चक्रवत् परिवर्तते ।।

                                                       (महाभारत / शांतिपर्व 174/19)

सुख के पश्चात् दुःख और धुःख के पश्यात् सुख होता है, यह शाश्वत नियम है । मनुष्यों के सुख-दुःख पहिये (चक्र) की भांति घूमते रहते हैं ।

  • अनन्तानीह दुःखानि सुखं तृणलवोपमम् ।

       नातः सुखेषु बध्नीयात् दृष्टिं दुःखानुबंधिषु ।।

                                                      (योगवासिष्ठ 2/13/23)

इस संसार में दुःख अनंत हैं तथा सुख अत्यल्प हैं, इसलिए दुःखों से घिरे होनो से सुखों पर दृष्टि नहीं लगानी चाहिए ।

  • वृद्धोकाले मृता भार्या बन्धुहस्ते गतं धनम् ।

        भोजनं च पराधीनं तिस्त्रः पुंसां बिडम्बनाः ।।

                                                         (चाणक्यनीति 8/9)

बुढ़ापे में स्त्री का मरना, बंधु के हाथ में चला गया धन और दूसरे के वश का भोजन ये तीनों पुरुषों के लिए अत्यंत दुःखदायी होते हैं ।

  • शोको नाशयते धैर्यं शोको नाश्यते श्रुतम् ।

       शोको नाशयते सर्वं नास्ति शोकसमो रिपुः ।।

                                             (वाल्मीकिरामायण / अयोध्याकांड 62/15)

शोक धैर्य को नष्ट कर देता है, शोक शास्त्र के ज्ञान को नष्ट करता है । शोक सब कुछ नष्ट कर देता है, अतः शोक के समान कोई दूसरा दुशमन नहीं है ।

  • सुखं वा यदि वा दुःखं प्रियं वा यदि वा प्रियम् ।

       प्राप्तं प्राप्तमुपासीत हृदयेनापराजितः ।।

                                                           (महाभारत / शांतिपर्व 174/39)

बुद्धिमान पुरुष को चाहिए कि सुख या दुःख, प्रिय अछवा अप्रिय, जो प्राप्त हो जाए उसका हृदय से स्वागत करे, कभी हिम्मत न हारे ।

  • राजा वेश्या यमश्चाग्निश्चौरो बालयाचकौ ।

        परदुःखन्न जानन्ति अष्टमो ग्रामकंटकाः ।।

                                                    (चाणक्यनीति 17/19)

राजा, वेश्या, यमराज, अग्नि, चोर, बालक, भिक्षुक और कहीं का चुगलखोर (चमचे) ये आठों दूसरे के दुःख को नहीं जानते हैं।

  • व्याधेरनिष्टसंस्पर्शाच्छमादिष्टविवर्जनात् ।

        दुखं चतुर्भिः शारीरं कारणैः सम्प्रवर्तते ।।

                                                      (महाभारत / वनपर्व 2/22)

रोग, अप्रिय घटनाओं की प्राप्ति, अधिक परिश्रम तथा प्रिय वस्तुओं का वियोग – इन चार कारणों से शारीरिक दुःख प्राप्त होता है ।

  • सर्व परवंश दुःख सर्वमात्मवशं सुखम् ।

        एतद् विद्यात् समासेन लक्षणं सुखदुःखयोः ।।

                                                          (मनुस्मृति 4/160)

सब कुछ जो परवश है, दुःख है । सब कुछ जो अपने वश में है, सुख है । संक्षेप में इसे सुख-दुःख का लक्षण जानना चाहिए ।