• उतो रयिः पृणतो नोप दस्यति ।

                                               (ऋग्वेद 10/117/1)

दान देने वाले की संपदा घटती नहीं बढ़ती है ।  यानीयत्कार्यों में लगाया धन, बैंक में जमा पूंजी के समान बढ़ता ही है ।

  • न पावत्याय रासीय ।

                                  (अथर्ववेद 20/82/1)

कुपात्रों को दान मत दो ।

  • येन केन विधि दीन्हे दान करइ कल्यान ।

                                                     (श्रीरामचरितमानस 7/103 ख)

जिस किसी प्रकार से दान किया जाए, वह कल्याण ही करता है ।

  • पानीयदानं परम दानानामुत्तमं सदा ।

       सर्वेषां जीवपूजानां तर्पणं जीवनस्मृतम् ।।

                                                    (शिवपुराण / तर्पण परमार्थ फल 1)

जल का दान समस्त दान में बहुत ही श्रेष्ठ एवं बड़ा दान है । यह सदा सम्त जीवों की पूर्ण तृप्ति करने वाला होता है । यहां तक कि जीवन देने वाला माना गया है ।

  • वारिदस्तृप्तिमाप्नोति सुखमक्षयमन्नदः ।

       तिलप्रदः प्रजामिष्टां दीपदश्चक्षुरुत्तमम् ।।

                                                   (मनुस्मृति 4/229)

जल का दान यानी प्यासे को पानी देने वाला पूर्ण तृप्ति को प्राप्त करता है । भुखे को अन्न का दान करने वाला अक्षयसुख की प्राप्ति करता है । तिलों का दान करने वाला मनचाही संतान पाता है और दीपक का दान करने वाला उत्तम नेत्र प्राप्त करता है ।

  • दानेन सर्वकामानवाप्नोति ।

                                    (वसिष्ठस्मृति 29/1)

दान-धर्म का पालन करने सं सभी कामनाओं की प्राप्ति हो जाती है ।

  • दक्षिणावन्तो अमृतं भजन्ते दक्षिणावन्तः प्र तिरन्त आयुः ।

                                                                                (ऋग्वेद 1/125/6)

दानी अमरत्व पाते हैं और दीर्घायु प्राप्त करते हैं ।

  • स्वर्गायुर्भूतिकामेन तथा पापोपशान्तये ।

       मुमुक्षुणा च दातव्यं ब्राह्मणेभ्यस्तथाअवहम् ।।

                                                             (कूर्मपुराण 26/57)

स्वर्ग, आयु तथा ऐश्वर्य अभिलाषी और पाप की शांति के इच्छुक तथा मोक्षार्थी पुरुष को चाहिए कि ब्राह्मणों को भरपूर दान करे ।

  • दानान्न दुश्करतरं पृथिव्यामस्ति किञ्चन ।

                                                        (महाभारत / वनपर्व 259/28)

पृथ्वी पर दान से ज्यादा मुश्किल (कठिनाई से किया जाने वाला ) कार्य कोई नहीं है ।

  • पृणन्नापिरपृणन्तमभि ष्यात् ।

                                         (ऋग्वेद 10/117/7)

न कमाने वाले त्यागी से कमाकर दान करने वाला व्यक्ति श्रेष्ठ होता है।

  • दानमेकं कलौयुगे ।

                          (मनुस्मृति 1/86)

कलियुग में गृहस्थ-धर्म के अंतर्गत एक दान ही सबसे श्रेष्ठ कर्म कहलाता है, इसलिए जितनी शक्ति हो उतना दान करना चाहिए ।

  • न दद्याद् यशसे दानं न भयान्नोपकारिणो ।

यश की इच्छा से कभी दान न दें, न भयभीत होकर दें और न ही पूर्वोपकारी को दें, क्योंकि वह बदला चुकाने के समान होगा, पुण्य कुछ भी प्राप्त नहीं होगा ।

  • सर्वस्व दानं विधिवत्सर्वं पापं विशोधनम् ।

                                                      (कूर्मपुराण 34/94)

अनीति से संग्रह किए हुए धन को दान कर देने पर ही पाप का निवारण होता है ।

  • क्षीयन्ते सर्वदानानि यज्ञहोमबलिक्रियाः ।

       न क्षीयते पात्रदानभयं सर्वदेहिनाम् ।।

                                            (चाणक्यनीति 16/14)

सभी प्रकार का दान, यज्ञ, होम (हवन) और बलि ये सब कुपात्र को देने से शीघ्र ही नष्ट हो जाते हैं, लेकिन सुपात्र को दिया हुआ दान और जीवों पर दया ये कभी नष्ट नहीं होते ।

  • भूमिदो भूमिमाप्नोति दीर्घमायुर्हिरण्यदः ।

       गृहदोग्रयाणि वेश्मनि रूप्यदोरूपमुत्तमम् । 

                                                      (मनुश्मृति 4/230)

भूमि को दान देने वाला भूमि की प्राप्ति करता है और सुवर्ण को देने वाला दीर्घ आयु पाता है । बने हुए घर का दान करने वाला उत्तम घरों की प्राप्ति करता है । चांदी का दान करने वाला सुंदरता को प्राप्त करता है ।

  • शतहस्त समाहर सहस्त्रहस्त सं किर ।

                                                 (अथर्ववेद 3/24/5)

सैकड़ों हाथों से इकट्ठा करो और हजारों हाथों से बिखेरो यानी दान करो ।

  • दातव्यमिति यद्दानं दीयतेअनुपकारिणे ।

       देशे काले च पात्रे च तद्दानं सात्त्विकं समृतम् ।।

                                                            (श्रीमद्भभगवद्गीता 17/20)

दान देना ही शुभ कर्म है, ऐसा मानकर जो दान देश, काल और पात्र का विचार करके प्राप्त होने पर उपकार न करने वाले (यानी दान देने वाले से किसी सहयोग की आशा न रखें) के प्रति दिया जाता है, वह दान सात्विक कहलाता है ।

  • न ता नशन्ति न दभाति तस्करो ।

       नासामामित्री   व्यथिरा   दधर्षति ।

       देवांश्च     याभिर्यजते     दाति     च ।

       ज्योगित्ताभिः सचते गोपतिः सह ।।

                                               (ऋग्वेद 6/28/3)

संसार का सर्वश्रेष्ठ दान ज्ञानदान है क्योंकि चोर इसे चुरा नहीं सकते, न ही कोई इसे नष्ट कर सकता है । यह निरंतर बढ़ता है और लोगों को स्थायी सुख देता है ।