• तपो हि परमं श्रेयः सम्मोहमितरत् सुखम् ।

                                                    (वाल्मीकिरामायण / उत्तरकांड 84/9)

तप ही परमकल्याण का साधन है । दूसरा सारा सुख तो अज्ञान मात्र है ।

  • दिवमारूहत् तपसा तपस्वी ।

                                       (अथर्ववेद 13/2/25)

ऊंचा वह उठता है जो तप करता है, क्योंकि तप किए बिना किसी की आत्मोन्नति नहीं हो सकती ।

  • पवित्रं ते विततं ब्रह्मणस्पते प्रभुर्गात्राणि पर्य्येषि विश्वतः ।

       अतप्ततनूर्न तदामो अश्नुते शृतास इद्वहन्तस्तत्समाशत ।।

                                                                                 (ऋग्वेद 9/83/1)

यह संसार शुभ मंगलदायक और मधुर पदार्थों से भरा पड़ा है किंतु वे मिलते उन्हीं को हैं जो तप के द्वारा उनका मूल्य चुकाने को तैयार रहते हैं । विवेकपूर्ण तप से विद्या, धन आदि की प्राप्ति होती है ।

  • नातप्ततपसो लोके प्राप्नुवन्ति महासुखम् ।

                                                           (महाभारत / वनपर्व 259/13)

बिना तप किये इस लोक में कोई भी मनुष्य सुख को प्राप्त नहीं करता है ।

  • नासाध्यमस्ति तपसो ।

                                (ब्रह्मपुराण 129/50)

तपस्या से कुछ भी दुर्लभ नहीं है ।

  • देवद्विजगुरुप्राज्ञपूजनं शौचमार्जवम् ।

     ब्रह्मचर्यमहिंसा च शारीरं तप उच्यते ।।

                                                  (श्रीमद्भगवह्गीता 17/14)

देवता, ब्राह्मण, गुरु और ज्ञानीजनो का पूजन, पवित्रता, सरलता, ब्रह्मचर्य और अहिंसा – यह शरीर- संबंधी तप कहा जाता है ।

  • ब्रह्मचर्येण तपसा देवा मृत्युमपाघ्नत ।

                                                    (अथर्ववेद 11/7/19)

ब्रह्मचर्य के पालन और चपस्या के द्वारा देवताओ ने मृत्यु को भी जीत लिया । तप एक ऐसा साधन है जिसके द्वारा सब कुछ संभव है इसलिए तपस्या का महत्व सर्वाधिक है ।

  • तपसा वै लोकं जयति ।

                               (शतपथ ब्राह्मण 3/4/4/27)

लोकों को तप से जीतते हैं ।

  • तपोमूलमिदं सर्वम् ।

                             (महाभारत / उद्योगपर्व 43/13)

तपस्या ही सारे जगत् का मूल है ।

  • तप बल से  सिरजई  विधाता ।

      तप  बल  विष्णु  भये  परिभ्राता ।।

      तप  बल  संभु  करहिं  संहारा ।

      तप  तें  अगम  न  कछु  संसारा ।।

                                           (गोस्वामी तुलसीदास)

तप के बल से ब्रह्मा सृष्टि करते हैं, तपोबल से विष्णु रक्षा करते हैं और तपोबल से शंकरजी संहार करते हैं । तप से संसार में कोई भी वस्तु दुर्लभ नहीं है ।

  • ब्रह्मणः तपसा सृष्टं जगद्विशवमिदं पुरा ।

      तस्मान्नाप्नोति तद्यज्ञात्तपो मूलमिदं स्मृतम् ।।

                                                                   (मत्स्यपुराण 143/41)

प्राचीनकाल में ब्रह्मा ने तपोबल द्वारा ही इस संपूर्ण जगत् की सृष्टि की थी । इसलिए यज्ञ के द्वारा उस अक्षय पदार्थ की प्राप्ति नहीं हो सकती, जिसकी प्राप्ति तपस्या द्वारा हो सकती है । तपस्या ही सबका मूल है ।

  • तपः संचय एवेह विशिष्टो द्रव्यसंचयात् ।

                                                   (महाभारत / अनुशासनपर्व 93/45)

अर्थसंचय की अपेक्षा तपसंचय ही श्रेष्ठ है ।

  • ज्ञानं विज्ञानं विज्ञानमारोग्यरूपवत्वं तथैव च ।

       सौभाग्यं चैव तपमा प्राप्यते सर्वदा सुखम् ।।

                                                           (शिवपुराण /तर्पण 51)

तपस्या से ज्ञान-विज्ञान, आरोग्य, रूपवत्ता और सौभाग्य, सुखादि निरंतर प्राप्त करते हैं ।

  • मनः प्रसादः सौम्यत्वं मौनमात्मविनिग्रहः ।

       भावसंशुद्धिरित्यंतत्तपो          मानसमुच्यते ।।

                                                         (श्रीमद्भगवद्गीता 17/16)

मन की प्रसन्नता, शांतभाव, भगवच्चिंतन करने का स्वभाव, मन का निग्रह और अंतःकरण के भावों की भलीभांति पवित्रता, इस प्रकार यह मन संबंधी तप कहा जाता है ।

  • न चास्ति तत्सुख लोके यद्विना तपसा किल ।

      तपसब    सुख    शर्वमिति    वेदयेदो    विदुः ।।

      ज्ञानं विज्ञानं विज्ञानमारोग्य रूपवत्वं तथैव च ।

      सौभाग्यं  चैव  तपमा  प्राप्यते  सर्वदा  सुखम ।।

                                                             (शिवपुराण / तर्पण आदि फल /50-51)

संसार में ऐसा कोई भी सुख नहीं है, जो बिना तप के प्राप्त हो जाता हो । तप से ही सब सुख मिलता है, वेद के ज्ञाता ऐसा ही कहते हैं । तपस्या से ज्ञान-विज्ञान, आरोग्य, रूपवत्ता और सौभाग्य, सुखादि निरन्तर प्राप्त हुआ करते हैं ।

  • तपसा प्राप्यते सत्वं सत्त्वात् संप्राप्यते मनः ।

       मनसा प्राप्यते त्वात्मा ह्यात्मां पत्त्या निवर्तते ।।

                                                                    (मैत्रायणी संहिता 4/3)

तप द्वारा ज्ञान प्राप्त होता है । ज्ञान होने से मन वश में आता है । मन वश में आने से आत्मा की प्राप्ति होती है और आत्मा की प्राप्ति हो जाने से संसार से छुटकारा मिल जाता है ।