• कृतमिष्टं ब्रह्मणो वीर्येण ।

                             (अथर्ववेद 19/72/1)

वेदज्ञान से ही हमारा भला होता है ।

  • गतासूनगतासूंश्च नानुशोचन्ति पंडिताः ।

                                                           (महाभारत / भीष्मपर्व 26/11)

ज्ञानी लोग मृतकों अथवा जीवितों के लिए शोक नहीं करते ।

  • पाताले भूतले स्वर्गे सुखमैश्वर्यमेव च ।

       न तु पश्यामि यन्नं पाण्डित्यादतिरिच्चते ।।

                                                   (स्कंदपुराण 6/143/3)

पाताल, भूतल और स्वर्ग में वह सुख कहीं भी नहीं दिखाई देता, जो ज्ञानवान होने पर प्राप्त होता है ।

  • दुरुत्तरा या विपदो दुःख कल्लोल संकुलाः ।

       तीर्यते प्रज्ञया ताभ्योनानाअपद्धयो महामते ।।

                                                        (योगवासिष्ठ 5/12/20)

विभिन्न प्रकार की कठिन विपत्ती रूपी समुद्र में ज्ञान द्वारा ही तैरकर पार किया जाता है ।

  • न ता नशंति न दभाति तस्करो नासामामित्रो व्यथिरा दधर्षति ।

       देवांश्च याभिर्यजते ददाति च ज्योगित्ताभिः सचते गोपतिः सह ।।

                                                                                       (ऋग्वेद 6/28/3)

संसार का सर्वश्रेष्ठ दान ज्ञानदान है, क्योंकि चोर इसे चुरा नहीं सकते, न ही कोई इसे नष्ट कर सकता है। यह निरंतर बढ़ता रहता है और लोगों को स्थायी सुख देता है ।

  • आहार-निद्रा-भय-मैथुनानि समानि चैतानि नृणां पशुनाम् ।

     ज्ञानं नराणामधिको विशेषो ज्ञानेन हीनः पशुभिः समानाः ।।

                                                                           (चाणक्यनीति 16/17)

भोजन, निद्रा, भय, मैथुन – ये मनुष्य पशुओं के समान ही होते हैं, किंतु मनुष्यों में ज्ञान विशेष रूप से अधिक है । ज्ञानरहित मनुष्य पशु के समान होता है ।

  • ब्रह्मणावङिवि पश्यति ।

                                 (अथर्वेद 10/8/19)

ज्ञान से मनुष्य नीचे देखता है अर्थात् विनम्र हो जाता है ।

  • न हायनैर्न पलि तैर्न वित्तेन न बन्धुभिः ।

      ऋषयश्चक्रिरे धर्मं योअनूचानः स नो महान् ।।

                                                               (मनुस्मृति 2/154)

न अधिक वय से, न सफेद बालों से, न धन और बंधुओं से कोई बड़ा होता है । ऋषियों ने ऐसा माना है कि जो ज्ञानवान है, वही बड़ा है ।

  • न हि ज्ञानेन सदृशं पवित्रमहि विद्यते ।

                                                       (श्रीमद्भागवद्गीता 4/38)

इस संसार में ज्ञान के समान पवित्र करने वाला निःसंदेह कुछ भी नहीं है।

  • ज्ञानान्निर्दुःखितामेति ज्ञानादज्ञान संक्षयः ।

       ज्ञानादेवपरासिद्धिर्नायस्मादाम वस्तुतः ।।

                                                 (योगवासिष्ठ 5/88/12)

ज्ञान से ही दुःख दूर होते हैं, ज्ञान से अज्ञान का निवारण होता है, ज्ञान से ही परमसिद्धि प्राप्त होती है और किसी भी उपाय से नहीं ।

  • अज्ञश्चाश्रद्दधानश्च संशयात्मा विनश्यति ।

                                                          (महाभारत / भीष्मपर्व 28/40)

जिसे ज्ञान नहीं, श्रद्धा नहीं और जो संशयग्रस्त मनुष्य है, उसका नाश हो जाता है ।

  • ब्राह्मणे पुल्कसे स्तेने ब्रह्मण्येअर्के स्फुलिंगके ।

       अक्रूरे   क्रूरके   चैव   समदृक्   पण्डितो   मतः ।।

                                                           (श्रीमद्भागवत 11/29/14)

जो ब्राह्मण और चांडाल में, चोर और सदाचारी ब्राह्मण में, सूर्य और चिनगारी में तथा कृपालु और क्रूर में समदृष्टि रखता है, उसे ज्ञानी मानना चाहिए ।

  • अज्ञेभ्यो ग्रंथनः श्रेष्ठ ग्रंथभ्यो धारिणोवरः ।

       धारिभ्यो ज्ञानिनः श्रेष्ठ ज्ञानिभ्यो व्यवसायिनः ।।

                                                               (मनुस्म़ृति / कृषिधर्म 170)

अज्ञानी मूर्ख से शास्त्र पढ़ने वाला श्रेष्ठ होता है, उसे पढ़कर स्मृति में धारण करने वाला उससे श्रेष्ठ होता है । शास्त्र के मर्म को समझने वाला ज्ञानी और ज्ञानी से भी श्रेष्ठ उस पर आचरण करने वाला होता है ।

  • यथैधांसि समिद्धोअग्निर्भस्मसात्कुरुतेअर्जुन ।

       ज्ञानाग्नि सर्वकर्माणि भस्मसात्कुरुते  तथा ।।

                                                           (श्रीमद्भगवद्गीता 4/37)

जैसे प्रज्जवलित अग्नि ईंधनों को सर्वथा भस्म कर देती है, ऐसे ही ज्ञान रूपी अग्नि संपूर्ण कुकर्मों को सर्वथा भस्म कर देती है ।

  • असतो मा सद्गमय, तमसो मा ज्योतिर्गमय मृत्योर्माअमृतं गमय ।

                                                                                  (बृहदारण्यकोपनिषद् 1/3/38)

ज्ञान ही हमें असत् से ही सत् की ओर, तमस् से ज्योति की ओर तथा मृत्यु से अमरत्व की ओर ले जाने वाला है ।

  • आ सूर्य्यो न भानुमद्भिरकैरग्ने ततन्थ रोदसी विभासा।

       चित्रो नयत्यपरि तमांस्यक्तः शोचिषा पत्मन्नौशिजो न दीयन् ।।

                                                                                  (ऋग्पेइद 6/4/6)

जिस प्रकार सीर्य अपने निश्चित मार्ग से चलता हुआ अपने प्रकाश से अंधकार को दूर करता है उसी प्रकार मनुष्य अपने निश्चित मार्ग पर चलता हुआ अपने ज्ञान से दूसरों का अज्ञान दूर करे ।