• जकारो जन्मविच्छेद पकारो पापनाशकः ।

       तस्माद् जप इति प्रोक्त जन्मपापविनाशकः ।।

                                                                                  (अग्निपुराण)

‘ज’से जन्म-मरण का नाश होता है और ‘प’ से पाप का नाश होता है – इसी का नाम है जप । इसलिए जन्म और मरण के पापों का, दुःखों का नाश करने के लिए खूब जप करना चाहिए ।

  • विना दमैश्चयत्कृत्यं सच्चदानं विनोदकम् ।

       असंख्यया तु यज्ञप्तं तत्सर्वं निष्फलं भवेत् ।।

                                                                                   (अंगिरास्मृति)

बिना कुशा के अनुष्ठान, बिना जल संस्पर्श के दान तथा बिना माला की संख्या के जप करना निष्फल होता है ।

  • गुरुनामजपाछेवि बहुजन्मार्जितान्यपि ।

        पापानि  विलयं  यान्ति  नास्ति  सन्देहमण्वपि ।।

                                                                                   (स्कंदपुराण / गुरुगीता 2/185)

गुरुनाम के जप से अनेक जन्मों के इकट्ठे हुए पाप भी नष्ट होते हैं, इसमें अणुमात्र संशय नहीं है ।

  • अंगुष्ठ योक्षदं विद्यात्तज्जननी शत्रुनाशिनीम् ।

       मध्यमां धनदां शांतिं करोत्येषा ह्यनामिका ।।

                                                                           (शिवपुराण / पंचाक्षर मंत्रजप 28)

अंगूठे से जप करें तो मोत्र, तर्जनी से शत्रुनाश, मध्यमा से धनप्राप्ति और अनामिका उंगली से जप करने पर शांति मिलती

है ।

  • असंख्यमासुरं यस्मत्तस्मात्तद् गण्येद् ध्रुवम् ।

                                                                              (बृहद्पाराश संहिता)

बिना गिने जप असुरभाव को प्राप्त हो जाता है । अतः जप की गणना अवश्य करनी चाहिए ।

  • वस्त्रासने च दारिद्रयं पाषाणे रोगसंभवः ।

       मेदिन्यां दुःखमाप्नोति काष्ठे भवति निष्फलम् ।।

                                                                                  (स्कंदपुराण / गुरुगीता 2/139)

कपड़े के आसन पर बैठकर जप करने से दारिद्रय आता है, पत्थर के आसन पर रोग, भूमि पर बैठकर जप करने से दुःख आता है और लकड़ी के आसन पर किए हुए जप निष्फल होते हैं ।

  • समस्तसप्ततन्तुभ्यो जपयज्ञ परः स्मृतः ।

         यावन्तः कर्म यज्ञाश्च दानानि च तपांसि च ।।

         ते सर्वे जप यज्ञस्य नार्हति षोडशीं कलाम् ।

         जपेन देवता नित्यं स्तूयमाना प्रसीदति ।।

         प्रसन्ना विपुलान् भोगान् दद्यान्मुक्तिश्च शाश्वतीम् ।

         तस्माज्जपः सदा श्रेष्ठः सर्वस्मत्पुण्यसाधनात् ।।

                                                                                     (भरद्वाज गायत्री व्याख्या)

समस्त यज्ञों से जप अधिक श्रेष्ठ है । जितने भी कर्म, यज्ञ, दान और जप हैं, वे समस्त यज्ञ जप की सोलहवीं कला के भी समान नहीं होते हैं । जप द्वारा स्तुति किए दए देवता प्रसन्न होकर बड़े-बड़े भोगों को तथा अक्षयशक्ति को प्रदान करते हैं । समस्त पुण्य साधनों में जप सर्वश्रेष्ठ है ।

  • यज्ञानां जपयज्ञोअपि ।

                   (श्रीमद्भगवद्गीता 10/ 25)

मैं (भगवान् श्रीकृष्ण) सब प्रकार के यज्ञों में जपयज्ञ हूं ।

  • शमशाने बिल्वमूले वा वटमूलान्तिके तथा ।

       सिद्धयन्ति कानके मूले आम्रवृक्षस्य सन्निधौ ।।

                                                                                  (स्कंदपुराण / गुरुगीता 2/146)

शमशान में, बिल्व वृक्ष, वटवृक्ष या कनकवृक्ष के नीचे और आम्रवृक्षके पास जप करने से सिद्धि जल्दी मिलती है ।

  • विधियज्ञाज्जपयज्ञो विशिष्टो दशभिर्गुणैः ।

       उपांशुः स्याच्छतगुणाः सहस्त्रो मानसः स्मृतः ।।

                                                                                             (मनस्मृति 2/85)

दश-पौर्णमासरूप कर्मयज्ञों की अपेक्षा जपयज्ञ दस गुना श्रेष्ठ है । उपांशु जप सौ गुना और मानस जप सहस्त्रगुना श्रेष्ठ है ।

  • ये पाकयज्ञाश्चत्वारो विधियज्ञः समन्वितः ।

      सर्वे ते जप यज्ञस्य कलां नार्हन्ति षोडशीम् ।।

                                                                                    (मनुस्मृति 2/86)

होम, बलिकर्म, नित्य श्राद्ध, अतिथि भोजन आदि पाकयज्ञ और विधियज्ञ-दर्षपौर्णमासादि ये समस्त मिलकर भी जपयज्ञ की सोलहवीं कला के समान नहीं है ।

  • प्रमादात्पतिते सूत्रे जप्तव्यं तु शतद्वयम् ।

                                                                    (अग्निपुराण 327/5)

यदि प्रमादवश माला हाथ से गिर जाये, तो मंत्र को दो सौ बार जपना चाहिए । जप सदैव अपनी ही माला से करना चाहिए, क्योंकि वह अत्यंत प्रभावशाली होती है ।