• अगम्यागमनादायुर्यशः पुण्यनि क्षीयन्ते ।

        नास्त्यहंकारसमः       शत्रुः ।।

                                                                          (चाणक्यसूत्र 309)

अहंकार से बड़ा कोई शत्रु नहीं है । यहां जिस अहंकार को शत्रु कहा गया है, वह भौतिक सामर्थ्य का दंभ है । यहां अहंकार के नाम से निंदित करके उसे महाशत्रु कहा गया है ।

  • गुरोरप्यवलिप्तस्य कार्याकार्यमजानतः ।

        उत्पथं प्रतिपन्नस्य कार्यं भवति शासनम् ।।

                                                              (वाल्मीकिरामायण / अयोध्याकांड 21/13)

यदि गुरु भी घमंड में आकर कर्त्तव्य-अकर्त्तव्य का ज्ञान खो बैठे और कुमार्ग पर चलने लगे, तो उसे भी दंड देना आवश्यक हो जाता है ।

  • विद्यामदो धनमदस्तृतीयोअभिजनो मदः ।

        मदा अतेअचलिप्तानामेत अव सतां दमाः ।।

                                                        (विदुरनीति 2/44)

  विद्या का मद, धन का मद और तीसरा ऊंचे कुल का मद है । ये घमंडी पुरुषों के लिए तो मद हैं, परंतु सज्जन पुरुषों के लिए  दम के साधन हैं ।

  • आत्मसंभाविताः स्तब्धा धनमानमदान्विताः ।

        यजन्ते नामयज्ञैस्ते दम्भेनाविधिपूर्वकम् ।।

                                                                                (श्रीमद्भागवद्गीता 16/17)

अपने आपको बड़ा मानने वाले, अकड़ वाले, धन, मान और मद से युक्त लोग दम्भ से अविधिपूर्वक नामनात्र के यज्ञों द्वारा यजन करते हैं ।

  • प्रीति प्रनय विनु मद ते गुनी ।

                   (श्रीरामचरितमानस / अरण्यकांड 6)

नम्रता के बिना प्रेम और अहंकार से गुणवान् मनुष्य शीघ्र ही नष्ट हो जाता है ।

  • त्रिधावस्थास्य देहस्य कृमिविड्भस्मरूपतः ।

        को गर्व क्रियते तार्क्ष्य क्षणाविध्वांसिभिर्नरैः ।।

                                                                      (गरुड़पुराण, उत्तर. 5/24)

इस शरीर की बस तीन प्रकार की ही अवस्थाएं हैं – कृमि, विष्ठा और भस्म । पृथ्वी में गाड़ दिए जाने पर इसमें कीड़े पड़ जाते हैं, यह कृमिरूप हो जाता है । बाहर या जल में फेंके जाने पर इसे मगर, घड़ियाल, कौवे, कुत्ते, सियार,गीध आदि जीव खाकर विष्ठा कर डालते हैं तथा आग में जला डालने पर यह भस्म हो जाता है । ऐसे क्षणभंगुर शरीर पर मनुष्य के गर्व का क्या अर्थ है ?

  • सर्वमेवाभिमानः ।

               (विदुरनीति 3/50)

अभिमान सर्वस्व को नष्ट कर देता है ।