• इमा उ त्वा पुरूवसोअभि प्र नोनुवुर्गिरः ।

       गावो           वत्सं           न           धेनवः ।।

                                                                           (सामवेद / पूर्वार्चिक 2/4/2)

जैसे दुधारी गायें दिन भर वन में विचर कर शाम को अपने बछड़ों के पास दौड़ती हैं, उसी प्रकार गुणी व्यक्ति की सर्वत्र प्रशंसा होती है ।

  • यस्ते यज्ञेन समिधा य उक्थैरर्केभिः सूनो सदसो ददाशत् ।

       यं मर्त्येवष्मृत प्रचेता रायाद्युम्नेन श्रवसा वि भाति ।।

                                                                                           (ऋग्वेद 6/5/5)

जो अपने सद्गुण के आधार पर श्रेष्ठ कर्म करने का प्रयत्न करते हैं, उन्हें संसार में विद्या, धन और यश मिलता है ।

  • बहूनपि गुणानेको दोषो ग्रसति ।

                                         (चाणक्यसूत्र 161)

अनेकों गुणो को एक ही देष ग्रसित कर लेता है ।

  • सर्वस्य भूषणं विनयः ।

                                    (चाणक्यसूत्र 428)

विनय सबका आभूषण है ।

  • जज्ञानो हव्यो बभूथ ।

                                  (ऋग्वेद 10/6/7)

जो गुणवान हैं, उनकी सदैव प्रशंसा होती है । गुणविहीन व्यक्ति का कहीं आदर नहीं होता ।

  • अन्यो अन्यमभि हर्यत ।

                                       (अथर्ववेद 3/30/1)

एक दूसरे से प्यार करो, क्योंकि उसमें परमात्मा का प्रत्यक्ष निवास है ।

  • प्रसवु यज्ञम् ।

               (यजुर्वेद 30/1)

सत्कर्म ही किया करो ।

  • श्वसित्यप्सु हंसो न सीदन् ।

                                                (ऋग्वेद 1/65/9)

हंस की तरह गुणग्राहक बनो ।

  • विवेकनमनुप्राप्ता गुणा यान्ति मनोज्ञताम् ।

       सुतरां  रत्नमाभाति  चामीकरनियाजितम् ।।

                                                                  (चाणक्यनीति16/9)                                                                                        विवेकी मनुष्य को पाकर गुण उसी प्रकार चमक उठता है, जैसे सोने के आभूषण में रत्न जड़ देने पर शोभा पाता है ।      

  • अव जहि यातुधानानव कृत्याकृतं जहि ।

        अथो यो अस्मान् दिप्सति तमु त्वं जह्योषधे ।।

                                                                                (अथर्ववेद 5/14/2)

अन्न जिस तरह भूख मिटाता है वैसं ही सद्गुणों को अपने जीवन में धारण कर हम दोष-दुर्गुणों को दूर भगावें ।

  • विपदि धैर्यमथाभ्युदये क्षमा सदसि वाक्पटुता युधि विक्रमः ।

        यशसि चाभिरुचिर्व्यसनं श्रुतो प्रकृतिसिद्धमिदं हि महात्मनाम् ।।

                                                                                   (भर्तृहरि / नीतिशतक 52)

विपत्ति में धीरज, संपत्ति में क्षमा, सभा में वाक्चातुरी, युद्ध में पराक्रम, यश में प्रेम और शास्त्रों में लगन – ये सद्गुण महात्माओं में स्वाभाविक होते हैं ।

  • गुणाः सर्वत्र पूज्यन्ते पितृवंशो निरर्थकः ।

        वासुदेवं नमस्यन्ति वसुदेव न मानवाः ।।

                                                                        (चाणक्यनीति 16/7)

गुणों की ही सर्वत्र पूजा होती है, पितृवंश कोई महत्व नहीं रखता, सभी मनुष्य वासुदेव (श्रीकृष्ण) की पूजा करते हैं, वसुदेव (श्रीकृष्ण के पिता) की नहीं ।

  • पराक्रमोत्साहमतिप्रतापसौशील्यमाधुर्यनयानयैश्च ।

        गाम्भीर्यचातुर्यसुवीर्यधैर्येर्हनूमतः कोअप्यधिकोस्ति लोके ।।

                                                                        (वाल्मीकिरामायण / उत्तरकांड 36/44)

संसार में ऐसा कौन है जो पराक्रम, उत्साह, अति प्रताप, सुशीलता, मधुरता, नीति-अनीति के विवेक, गंभीरता, चतुरता, उत्तम बल और धैर्य में हनुमानजी से बढ़कर हो ।

  • अष्टौ गुणाः पुरुषं दीपयन्ति पज्ञां च कौल्यं च दमः श्रुतं च ।

        पराक्रमश्चाबहुभाषिता च दानं यथाशक्तिकृतज्ञता च ।।

                                                                                                       (विदुरनीति 3/53)

हे राजन् ! प्रज्ञा अर्थात् विशेष ज्ञान, कुलीनता, इंद्रिय-दमन, ज्ञान, पराक्रम, मितभाषी होना, यथाशक्ति दान और कृतज्ञता – ये आठ गुण पुरुष की शोभा बढ़ाने वाले होते हैं यानी यश और कीर्ति फैलाने वाले होते हैं ।

  • तेन त्यक्तेन भुंजीथा मा गृधः कस्यास्विद्धनम् ।

                                                                                (यजुर्वेद 40/1)

त्यागभाव से निष्काम व निःस्वार्थ भाव से अपनो के भाग का उपयोग करो । अन्य किसी प्राणी के धन या अधिकार को मत छीनो ।

  • कुलीनमकुलीनं वा वीरं पुरूषमानिनम् ।

        चारित्रमेव व्याख्याति शुचिं वा यदि वा शुचिम् ।।

                                                                        (रामायण / अयोध्याकांड /109/4)

चरित्र ही बताता है कि कौन पुरुष कुलीन है, कुलहीन है, वीर है, अमानी है, पवित्र है या अपवित्र है ।