• गौर्वरिष्ठा चतुष्पदाम् ।

                                (महाभारत / भीष्मपर्व 121/34)

चौपाये जीवों में गौ सर्वश्रेष्ठ जीव है ।

  • मातरः सर्वभूतानां गावः सर्वसुखप्रदाः ।

                                                           (महाभारत / अनुशासनपर्व 69/7)

गौएं समस्त प्राणियों की माता कहलाती हैं । वे सभी को सुख प्रदान करने वाली हैं ।

  • माता रुद्राणां दुहिता वसूनां स्वसादित्यानाममृतस्य नाभिः ।

        प्र नु वोचं चिकितुषे जनाय मा गामनागामदितिं वधिष्ट ।।

                                                                                                            (ऋग्वेद8/101/15)

गौ रुद्रों की माता, वसुओं की पुत्री, सूर्य की बहन और घृतरूप अमृत का केंन्द्र है । मैं समझदार व्यक्ति के प्रति कह दूं कि निरपराध, अदीना गौ को मत मार, वध न कर । अतिवृद्ध और अनुपयोगी है जाने पर भी गौ-बैल की रक्षा और सेवा की जानी चाहिए क्योंकि उपकारकर्ता की प्राणरक्षा तो एक साधारण शिष्टता है ।

  • वृषा यूथेव वंयगः कृष्टी रियर्त्योजसा ।

        ईशनो अप्रतिष्कुतः ।।

                                                           (ऋग्वेद 1/7/8)

गाय का दूध ग्रहण करो । गौ-दुग्ध के सेवन और गौ के समान सात्विक जीवन यापन से तुम्हें यथच्छ शारीरिक और मानसिक शक्ति मिलेगी ।

  • गोभिस्तुल्यं न पश्यामि धनं किंचित् इहाच्युत ।

                                                                                   (महाभारत / अनुशासनपर्व 51/26)

गाय के समान कोई धन इस संसार में मै नही देखता । अस्तु गाय धन है ।

  • गावो भगो गाव इन्द्रो म इच्छाद्र गावः सोमस्य प्रथमस्य भक्षः ।

        इमा या गावः स जनास इन्द्र इच्छामि हृदा मनसा चिदिन्द्रम् ।।

                                                                                                        (अथर्ववेद 4/21/5)

गायें ही मनुष्य का बल, धन और उत्तम अन्न हैं । इसलिए मैं सदा गायों की उन्नति हृदय और मन से चाहता हूं ।

  • धेनूनामस्मि कामधुक् ।

                                         (श्रीमद्भगवद्गीता 10/28)

भगवान् श्रीकृष्ण कहते हैं कि गायों में मैं कामधेनु हुं ।

  • तैस्तैर्गुणैः कामदुधा च भूत्वा नरं प्रदातारमुपैति सा गौः ।

        स्वकर्मभिश्चाप्यनुवध्यामानं  तीव्रन्धकारे  नरके  पतन्तम् ।।

        महार्णवे नौरिव वायुनीता दत्ता हि गौस्तारयते मनुष्यम् ।

        तथैव दत्ता कपिला सुपात्रे पापं नरस्याशु निहन्ति सर्वम्।।

                                                                     (महाभारत / आश्वमेधिक / दाक्षिणात्यपाठ)

दान में दी हुई गौ अपने विभिन्न दुणों द्वारा कामधेनु बनकर परलोक में दाता के पास पहुंचती है । वह अपने कर्मों से बंधकर ङोर अंधकारपूर्ण नरक में गिरते हुए मनुष्य का उसी प्रकार उद्धार कर देती है, जौसे वायु के सहारे से चलती हुई नाव । मनुष्य को महासागर में डूबने से बचाती है, उसी प्रकार सुपात्र को दी हुई कपिला गौ मनुष्य के सब पापों को तत्काल नष्ट कर डालती है ।

  • यथा हि गंगा सरितां वरिष्ठा ।

        तथार्जुनीनां कपिला वरिष्ठा ।।

                                        (महाभारत / अनुशासनपर्व 88/8)

जिस प्रकार नदियों में गंगा श्रेष्ठ है, उशी प्रकार गौओं में कपिला गौ श्रेष्ठ है ।

  • गवां ग्रासप्रदानेन स्वर्गलोके           महीयते ।

       गवां हि तीर्थे वसतीह गंगा पुष्तिस्तथा सा रजसि प्रवृद्धा ।

       लक्ष्मी करीषे प्रणतौ च धर्म्मसतासां प्रणामं शतं च कुर्यात् ।।

                                                                                                                (विष्णुस्मृति)

गौओं को भोजन देने से स्वर्ग मिलता है । गौओं के बाड़े में तीर्थों का निवास है । उनकी चरण-रज से बुद्धि और संपदा बढ़ती है । उन्हें प्रणाम करने से पुण्य होता है इसलिए गौओं को बार-बार प्रणाम करना चाहिए ।

  • दातास्याः स्वर्गमाप्नोति वत्यराल्लोमसम्मितान् ।

        कपिला    चेत्तारयाति    भूयश्च    सप्तमं    कुलम् ।।

                                                                                     (याज्ञवल्क्यस्मृति 1/140)

गौ दान करने वाला उतने वर्ष स्वर्ग में रहता है, जितने कि गाय के शरीर में रोम होते हैं । कपिला (उत्तम गौ) दान करने वाले की सात पिढ़ियों का उद्धार कर देती है ।

  • तीर्थस्थानेषु यत्पुण्यं विप्रभोजने ।

        सर्वव्रतोपवासेषु सर्वेष्वेश तपसु च ।।

        यत्पुण्यं च महादैने यत्पुण्यं हरिसेवने ।

        भुवः पटने यत्तु सर्ववाक्येषु यद् भवेत् ।।

        यत्पुण्यं सर्वयज्ञेषु दीक्षायां च लभेन्नरः ।

        तत्पुण्यं लभते प्राज्ञो गोभ्यो दत्तवा तृणानि च ।।

                                                                      (ब्रह्मवैवर्तपुराण / 21/87-89)

तीर्थस्थानों में जाकर स्नान दान से जो पुण्य प्राप्त होता है, ब्राह्मणों को भोजन कराने से जिस पुण्य की प्राप्ति होती है, संपूर्ण व्रत-उपवास, सब  तपस्या, महादान तथा श्रीहरि की आराधना करने पर जो पुण्य सुलभ होता है, संपूर्ण पृथ्वी की परिक्रमा, संपूर्ण वेद-वाक्यों के स्वाध्याय तथा समस्त यज्ञों की दीक्षा ग्रहण करने पर मनुष्य जिल पुण्य को पाता है, वही पुण्य बुद्धिमान् मानव गौओं को घास देकर पा लेता है ।

  • सूर्य गायो मेद  कृशं  चिदक्षीरं  चि  कृणुथा  सुप्रतीकम् ।

        अहं  गृहं  कृणुथ  भद्रवाचो  बृहदो  वय  उच्यते  सभासु ।।

                                                                                                                    (अथर्ववेद)

गौओं के दूध से निर्बल मनुष्य बलवान और हृष्ट-पुष्ट होता है तथा फीका और निस्तेज मनुष्य तेजस्वी बनता है । गौओं से घर की शोभा बढ़ती है । गौओं का शब्द बहुत प्यारा लगता है ।