• ॐ भूर्भुवः स्वः तत्यवितुर्वरेण्यं भर्गो द्वसेय धीमही धियो यो नः प्रचोदयात् ।।

                                                                                                     (यजुर्वेद 30/2)

गायत्री मन्त्र का भावार्थ यह है कि इस प्राणस्वरूप, दुःखनाशक, सुखस्वरूप, श्रेष्ठ तेजस्वी पापनाशक, देवस्वरूप, सर्वव्यापक परमात्मा को हम अंतरात्मा में धारण करे ।

  • न गायत्र्या परं जप्यम् ।

                                   (अग्निपुराण 215/8)

गायत्री से श्रेष्ठ जप करने योग्य मंत्र नहीं है ।

  • अन्तर्गायत्र्याममृतस्य गर्भे ।

                                                     (अथर्ववेद 13/3/20)

गायत्री में अमृत का बीज है ।

  • नास्ति गंगासमं तीर्थः न देवः केशवात् परः ।

       गायत्र्यास्तु परं जप्यं न भूतो न भविष्यति ।।

                                                                         (बृहद्योगियाज्ञवल्क्यस्मृति 10/10-11)

गंगा के समान कोई तीर्थ नहीं है, कृष्ण के समान कोई देव नहीं है । गायत्री से श्रेष्ठ जप करने योग्य कोई मंत्र न हुआ है, न होगा ।

  • नृसिंहार्कवराहाणां तान्त्रिकं वेदिक् तथा ।

       विना जप्त्वा तु गायत्रीं तत्सर्वं निष्फलं भवेत् ।।

                                                                                            (श्रीमद्भागवत 11/21/5)

नृसिंह, सूर्य, वराह,तांत्रिक एवं वैदिक मंत्रों का अनुष्ठान, गायत्री मंत्र का जप किए बिना निष्फल हो जाता है ।

  • गायत्र्येव परो विष्णुः गायत्र्येव परः शिवः ।

       गायत्र्येव  परो  ब्रह्मा  गायत्र्येव  त्रयी  ततः ।।

                                                                        (स्कंदपुराण / काशीखंड 4/9/58)

     गायत्री ही विष्णु है, गायत्री ही शिव है और गायत्री ही ब्रह्मा है । इस प्रकार     गायत्री त्रिदेव (ब्रह्मा, विष्णु, महेश) स्वरूपा है ।

  • यानपात्रे च याने च प्रवासे राजवेश्मनि ।

       परां सिद्धिमवाप्नोति सावित्रीं ह्युत्तमां पठन् ।।

                                                                              (महाभारत / अनुशासनपर्व 150/68)

जो मनुष्य जहाज अथवा किसी सवारी में बैठने पर, विदेश में अथवा राजदरबार में जाने पर मन ही मन उत्तम गायत्री मंत्र का जाप करता है, वह परम सिद्धि को प्राप्त होता है ।

  • भीतरोगविषादिभ्यः स्पृशञ्जत्वा विमोचयेत् ।

        भूमादिभ्यो विमुच्यते जल पीत्वाअभिमंत्रितम् ।।

                                                                                      (देवीभागवत / गायत्री 35)

जो गायत्रीमंत्र का जप करके कुश का स्पर्श करता है, वह भूत रोग आदि विषादि से रक्षित होता है । गायत्री से अभिमंत्रित जल का पान भूत-प्रेत के उपद्रव को नष्ट करता है ।

  • गायत्री चौव वेदांश्च तुलया समतोलयत् ।

       वेदा एकत्र साङ्गास्तु गायत्री चैकतः स्मृता ।।

                                                                                   (बृहद्योगियाज्ञवल्क्यसंहिता 4/80)

ब्रह्माजी ने तराजू के एक पलड़े में चारों वेदों को और दूसरे पलड़े में गायत्री स्थापित किया, तो दोनो को तोलने से गायत्री का पलड़ा ही भारी हुआ ।

  • गायत्री वा इदं सर्वभूतं यदिदं किञ्च वाग्ने ।

       गायत्री वाग्वा इदं सर्वभूतं, गायति च त्रायते च ।।

                                                                                      (छान्दोग्य उपनिषद् 3/12/1)

इस जड़-चेतन जगत् में गायत्री ही शक्ति रूप में विद्यमान है ।

  • सावित्र्यास्तु परं नास्ति ।

                                      (मनुस्मृति 2/83)

गायत्री से श्रेष्ठ अन्य कुछ नहीं है ।

  • परब्रह्म न निर्वाण पद दायिनी ।

        ब्रह्मतेजोमयी शक्तिस्तदधिष्ठातृदेवता ।।

                                                                                 (देवीभागवत)

गायत्री मोक्ष देने वाली, परमात्मास्वरूप और ब्रह्मतेज से युक्त शक्ति और मंत्रों की अधिष्ठात्री है ।

  • गायन्तं त्रायते यस्माद् गायत्री त्याभिधीयते ।

        प्रणवेन   तु   संयुक्तां   व्याहृतित्रयसंयुताम् ।।

                                                                           (देवीभागवत / रूद्राक्ष माहात्म्य 10/11)

इहलोक और परलोक में भी गायत्री में भी गायत्री के समान कोई मंत्र नहीं है । जो इनको गाता है, गायत्री उसकी रक्षा करती हैं । यह ॐकार और व्याहृतियों से युक्त होने के कारण गायत्री कहलाती है ।

  • गायत्री जाह्नवी च मे सर्वपापं हरे स्मृते ।

                                                                   (बृहन्नारदीयपुराण 6/60)

गायत्री और गंगाजी ये दोनों सब पाप हरने वाली हैं ।

  • गायत्र्युपासना नित्या सर्ववेदैः समीरिता ।

                                                                          (श्रीमद्भागवत 12/8/89)

सभी वेदों में गायत्री उपासना को नित्य उपासना कहा गया है ।

  • गायत्री वै प्राणः ।

                               शतपथ ब्राह्मण 1/3/5/15)

गायत्री प्राण स्वरूप है ।

  • गायत्र्या न परं जप्यं गायत्र्या न परं तपः ।

       गायत्र्या न परं ध्यानं गायत्र्या न परं हुतम् ।।

                                                                              (गायत्री पंचांग)

गायत्री से बढ़कर कोई जप, तप, ध्यान और यज्ञ नहीं है ।