• गांगेयं तु हरेत्तोयं पापमामरणान्तिकम् ।

                                                             (नारदपुराण / उत्तरभाग 38/25)

गंगाजल सेवन करने पर,आमरण किए पापों को हर लेता है ।

  • यथा सुराणाममृतं पितृणां च यथा स्वधा ।

        सुधा यथा च नागानां तथा गंगाजलं नृणाम् ।।

                                                                      (महाभारत / अनुशासनपर्व 26/49)

जिस प्रकार देवताओं को अमृत, पितरों को स्वधा (हवि की आहुति) तथा नागों को सुधा तृप्तिकारक है, उसी प्रकार मनुष्यों को गंगाजल संतुष्टिदायक है ।

  • अनिच्छयापि संस्पृष्टो दहनो हि यथा दहेत् ।

        अनिच्छयापि संस्नाता गंगा पापं तथा दहेत् ।।

                                                                                    (स्कंदपुराण / काशीखंड 27/49)

जैसे बिना इच्छा के भी स्पर्श करने पर आग जला ही देती है, उसी प्रकार अनिच्छा से भी अपने जल में स्नान करने पर गंगा मनुष्य के पापों को धो (भस्म कर) देती है ।

  • सर्वं कृतयुगे पुण्यं त्रेतायां पुष्करं स्मृतम् ।

        द्वापरेअपि कुरुक्षेत्रं गंगा कलियुगे स्मृता ।।

                                                                                 (महाभारत / वनपर्व 85/90)

सत्युग में सभी तीर्थ पुण्यदायक हैते हैं । त्रेता में पुष्कर तार्थ का महत्व है । द्वापर में कुरूक्षेत्र विशेष पुण्यदायक है और कलियुग में गंगा की अधिक महिमा गाई गई है ।

  • नास्ति विष्णुसमं ध्येयं तपो नाशनात्परम् ।

        नास्त्यारोग्यसमं धन्यं नास्ति गंगासमा सरित् ।।

                                                                                                  (अग्निपुराण)

भगवान के समान कोई आश्रय नहीं । उपवास के समान तप नहीं । आरोग्य के समान सुख नहीं और गंगा के समान कोई नदी (जलतीर्थ) नहीं है ।

  • सम्प्राप्नोत्यक्षयं स्वर्गं गंगास्नानेन केशवम् ।

        यशो राज्यं लभेत्पुण्यं स्वर्गमन्ते परां गतिम् ।।

                                                                                             (पद्मपुराण 5)

 गंगा के जल में स्नान करने की बहुत महिमा है । इसमें स्नान करने से अविनाशी स्वर्गलोक का निवासी मिल जाता है, भगवान् श्री केशव के चरणों की प्राप्ति होती है, संसार में उत्तम यश प्राप्त होता है, राज्य का लाभ होता है और महान् पुण्य मिलता है तथा अंत समय में स्वर्गलोक और परमगति प्राप्त होती है ।

  • दर्शनात् स्पर्शनात् पानात् तथा गंगेति कीर्तनात् ।

       पुनात्यपुण्यान्   नपुरुषांछताशोअथ   सहस्त्रशः ।।

                                                                                (महाभारत / अनुशासनपर्व 26/64)

दर्शन से, स्पर्श से, जलपान करने तथा नामकीर्तन से सैकड़ों तथा हजारो पापियो को गंगा पवित्र कर देती है ।

  • तीर्थानां परमं तीर्थः नदीनां परमा नदी ।

        मोक्षदा सरवभूतानां महापातकनाशनी ।।

                                                                         (कूर्मपुराण 35/32)

गंगा सभी तीर्थों में परमतीर्थ और नदियों में श्रेष्ठ नही है । वह सभी प्राणियों, यहां तक कि महापातकियों को भी मोक्ष प्रदान करने वाली है ।

  • पवित्राणां पवित्रं च मंगलानां च मंगलम् ।

        महेश्वरात् परिपतिता सर्वपापहरा शुभा ।।

                                                                        (कूर्मपुराण 35/35)

गंगा सभी पावित्र वस्तुओं से अधिक पवित्र और सभी मंगलकारी पहार्थों सं अधिक मांगलिक है । भगवान् शंकर के मस्तक से होकर निकली हुई गंगा सब पापों को हरने वाली और शुभकारिणी है ।

  • पुनाति कीर्तिता पापं दृष्टा भद्रं प्रयच्छति ।

       अवगाढा च पीता च पुनात्यासप्तमं कुलम् ।।

                                                                                  (महाभारत / वनपर्व 85/93)

नाम लेने मात्र से गंगाजल पापी को पवित्र कर देता है गंगा को देखनो से सौभाग्य तथा इसमें स्नान या इसका जल ग्रहण करने सो सात पीढ़ियों तक कुल पवित्र हो जाता है ।

  • यत्तोयकणिकास्पर्शे पापिनां ज्ञानसम्भवम् ।

        ब्रह्महत्यादिकं  पापं  कोटि  जनेमार्जितं  दहेत् ।।

                                                                (देवीभागवत / गंगा की उत्पत्ति 22)

भगवान् विष्णु कहते हैं – जिस गंगाजल के स्पर्शमात्र से पापियों के चित्त ज्ञान से परिपूर्ण हो जाते हैं और करोड़ों जन्म-जन्मांतरों के अर्जित हुए ब्रह्महत्या इत्यादि जौसे पाप तुरंत भस्म हो जाते हैं; उस पावनमयी पवित्ररूपा गंगाजी को बारंबार प्रणाम करता हूं ।

  • परदारपरद्रव्यपरद्रोहपराङ् मुखः ।

        गंगा ब्रूते कदागतेय मामयं पावयिष्यति ।।

                                                                           (सुभाषितभाण्डागार 160/46)

परायी स्त्री, पराये धन और दूसरों से देरोह करना । इन सब से विपरीत रहने वाला व्यक्ति कब मुझे आकर पवित्र करेगा ऐसा-गंगाजी कहती हैं, अर्थात् ऐसा व्यक्ति गंगा से भी अधिक पवित्र होता है ।