• सुकर्माण सुरुचः ।

                               (अथर्ववेद 18/3/22)

यश उसे विलता है, जो सत्कर्म करता है ।

  • पञ्चव पूज्यल्लोके यशः प्राप्नोति केवलम् ।

        देवान् पितृन् मनुष्यांश्च भिक्षूनतिथिपंचमान् ।।

                                                                     (विदुरनीति 1/80)

देवता, पितर, मनुष्य, सन्यासी और अतिथि – इन पांचों की पूजा करने वाला मनुष्य शुद्ध यश प्राप्त करता है ।

  • यशो मा द्यावापृथिवी यशो ऐन्द्रबृहस्पती ।

        यशो भगस्य विन्दतु यशो मा प्रतिमुच्यताम् ।

        यशस्व्यास्याः संसदोअहं प्रवदिता स्याम् ।।

                                                                 (सामदेव / पूर्वार्चिक 6/3/10)

हे द्यावा पृथ्वी! मुझे यश प्राप्त हो । जिस प्रकार द्यावा और पृथ्वी अपने सर्वहितकारी, सहज, स्वाभाविक गुणों के कारण यशस्वी हैं, उसी प्रकार मैं भी इन गुणों से युक्त होकर सार्वभौमिक सेवाओं द्वारा यश्स्वी होऊं । चंद्र और सूर्य! मुझे यश प्राप्त हो । मैं चंद्र और सूर्य के समान यशपूज्य बन जाऊं । मुझे ऐश्वर्य का यश प्राप्त हो । मैं इस सभा का यशस्वी होऊं । मेरी वाणी से विश्व प्रकृष्ट और उत्कृष्ट होता चला जाए ।

  • यशः शरीरं न विनश्यति ।

                                     (चाणक्यसूत्र 319)

मनुष्य का भोतिक शरीर मरता है, उसकी यश या कीर्तिरूपी देह नहीं । अर्थात् उशकी कीर्ति बराबर बनी रहती है ।

  • वयं सर्वेषु यशसः स्वाम ।

                                     (अथर्ववेद 6/58/2)

हम समस्त जीवों में यशस्वी होवें ।

  • अष्टौ गुणाः पुरुषं दीपयन्ति प्रज्ञा कौल्यं च दमः श्रुतं च ।

        पराक्रमश्चाबहुभाषिता  च  दानं  यथाशक्ति  कृतज्ञता  च ।।

                                                                                   (विदुरनीति 3/53)

बुद्धि, कुलीनता, इंद्रियानिग्रह, शास्त्रज्ञान, पराक्रम, अधिक न बोलना, शक्ति के अनुसार दान और कृतज्ञता – ये आठ गुण पुरुष की ख्याति बढ़ा देते हैं ।

  • अधमा धनमिच्छन्ति धनं मानं च मध्यमाः ।

        उत्तमा मानमिच्छन्ति मानो हि महतां धनम् ।।

                                                                                       (चाणक्यनीति 8/1)

अधम लोग धन चाहते हैं, मध्यम श्रेणी के लोग धन और मान दोनों चाहते हैं, उत्तम श्रेणी केवल मान चाहते हैं क्योंकि श्रेष्ठ व्यक्तियों के लिए मान ही सर्वोत्तम धन है ।

  • अभिवादनशीलस्य नित्सः वृद्धोपसेविनः ।

        चत्वारि तस्य वर्धन्ते आयुर्विद्या यशो बलम् ।।

                                                                 (मनुस्मृति 2/121)

जो मनुष्य नित्य वृद्धों की सेवा करता है और उनको प्रणाम करता है, उसके आयु, विद्या, यश और बल – ये चारों बढ़ते हैं ।

  • यस्ते यज्ञेन समिधा च उक्थेरर्केभिः सूनो सहसो ददाशत् ।

        यं  मर्त्येष्वष्मृत  प्रचेता  राया  द्युम्नेन  श्रवसा  वि  भाति ।।

                                                                                    (ऋग्वेद 6/5/5)

जो अपने सद्गुण के आधार पर श्रेष्ठ कर्म करने का प्रयत्न करते हैं, उन्हें संसार में विद्या, धन और यश मिलता है ।

  • यः सर्वभूतप्रशमे निविष्टः  सत्यो  मृदुर्मानकृच्छुद्धभावः ।

       अतीव स  ज्ञायते ज्ञातिमध्ये महामणिर्जात्य इव प्रसन्नः ।।

                                                                        (विदुरनीति 1/125)

जो मनुष्य संपूर्ण भूंतों को शांति प्रदान करने में तत्पर, सत्यवादी, कोमल, दूसरों को आदर देने वाला तथा पवित्र विचारवाला हैता है, वह अच्छी खान से निकले और चमकते हुए श्रेष्ठ रत्न की भांति अपने जातिवालों में अधिक प्रसिद्धि पाता है ।