• क्षमायुक्तस्य तपो विवर्धते ।

                                            (चाणक्यसूत्र   सूत्र 571)

क्षमाशील पुरुष का तप बढ़ता रहता है ।

  • क्षमा गुणवतां बलम् ।

                                 (विदुरनीति 2/75)

गुणवानों का बल है क्षमा ।

  • अलंकारो हि नारीणां क्षमा तु पुरुषस्य वा ।

                                                             (वाल्मीकिरामायण / बालकांड 33/7)

स्त्री अथवा पुरुष के लिए क्षमा ही अलंकार है ।

  • यः समुत्पतितं कोपं क्षमयैव निरस्यति ।

        यथोरगस्त्वञ्च जीर्णा स वै पुरुष उच्यते ।।

                                                                             (मत्स्यपुराण 28/4)

जो मनुष्य अपने उत्पन्न क्रोध का क्षमा द्वारा उसी प्रकार निराकरण कर देता है, जिस प्रकार सांप अपनी पुरानी केंचुली को छोड़ देता है, वही सच्चा पुरुष कहा जाता है ।

  • क्षमा धर्मः क्षमा यज्ञः क्षमा वेदाः क्षमा श्रुतम् ।

       य   एतदेवं   जानाति   स   सर्वं   क्षन्तुमर्हति ।।

                                                                                   (महाभारत / वनपर्व 29/36)

क्षमा ही मनुष्य का धर्म है । क्षमा ही पृथ्वी पर उसके लिए यज्ञ है और क्षमा में ही सब धर्मशास्त्र एकत्रित है । इस प्रकार क्षमा के स्वरूप और व्यावहारिक प्रयोग को जानने वाला सबको क्षमा करता है ।

  • क्षमा वशीकृतिर्लोकि क्षमया किं न साध्यते ।

        शान्तिखड्गः करे यस्य किं करिष्यति दुर्जनः ।।

                                                                                           (विदुरनीति 1/55)

इस जगत् में क्षमा वशीकरणरूप है । भला क्षमा से क्या नहीं सिद्ध होता ? जिसके हाथ में शांतिरूपी तलवार है, सका दुष्ट पुरुष क्या कर लेंगे !

  • क्षमा दानं क्षमा सत्यं क्षमा यज्ञाश्च पुत्रिकाः ।

        क्षमा यशः क्षमा धर्मः क्षमयां विष्ठितं जगत् ।।

                                                                  (वाल्मीकिरामायण / बालकांड 33/8-9)

क्षमा दान है, क्षमा सत्य है, क्षमा यज्ञ है, क्षमा यश है और क्षमा धर्म है । यहां तक कि क्षमा पर ही यह संपूर्ण जगत् टिका हुआ है ।

  • क्षमा गुणो ह्यशक्तानां शक्तानां भूषणं क्षमा ।

                                                                           (महाभारत / उद्योगपर्व 33/49)

क्षमा असमर्थ मनुष्यों का गुण तथा समर्थ मनुष्यों का भूषण है ।

  • यदेनं क्षमया युक्तमशक्तं मन्यते जनः ।

                                                                            (विदुरनीति 1/53)

क्षमाशील मनुष्य को लोग असमर्थ समझ लेते हैं ।

  • क्षमाशस्त्रं करे यस्य दुर्जनः किं करिष्यति ।

         अतृणे पतितो वह्निः स्वयमेवोपशाम्यति ।।

                                                                                  (सुभाषित भंडागार 87/1)

जिसके हाथ में क्षमारूपी शस्त्र है, उसका दुर्जन क्या बिगाड़ सकेगा । घास-फूस रहित भूमि पर गिरी अग्नि स्वयं ही शांत हो जाती है ।

  • मूढस्य सततं दोष क्षमां कुर्वन्ति साधवः ।

                                                                             (ब्रह्मवैवर्त्तपुराण)

अच्छे लोग मूर्ख के दोष को सदा क्षमा कर देते हैं ।

  • क्षमा कूपं तपस्विनाम् ।

                                   (चाणक्यनीति 3/9)

तपस्वियों की शोभा क्षमा (सहनशीलता) से होती है ।

  • नरस्याभरणं रूपं रुपस्याभरणं गुणः ।

         गुणस्याभरणं ज्ञानं ज्ञानस्याभरणं क्षमा ।।

                                                                                 (सुभाषित भंडागार 87/2)

मनुष्य का आभूषण उसका रूप है, रूप का आभूषण गुण है । गुण का आभूषण ज्ञान है और ज्ञान का आभूषण क्षमा है ।

  • नान श्रीमत्तरं किंचिदन्यत् पथ्यतमं मतम् ।

         प्रभविष्णोर्यथा  तात  क्षमा  सर्वत्र  सर्वदा ।।

                                                                                 (विदुरनीति 7/58)

समर्थ पुरुष के लिए सब जगह और सब समय में क्षमा के समान हितकारक और अत्यंत श्रीसंपन्न बनाने वाला उपाय दूसरा नहीं माना गया है ।

  • क्षममाणो विमुच्यते ।

                          (विदुरनीति 2/74)

क्षमा करने वाला पाप से मुक्त हो जाता है ।

  • अक्षमावान् परं दोर्षरात्मानं चैव योजयेत् ।

                                                                             (विदुरनीति 1/56)

क्षमाहीन पुरुष अपने को तथा दूसरों को भी दोष का भागी बना लेता है ।