• ते हेलो वरुण नमोभिः ।

                                            ऋगवेद 1/24/14

क्रोध को सदैव नम्रता से शांत करो ।

  • क्रोधः प्राहरः शत्रुः क्रोधो मित्रमुखो रिपुः ।

        क्रोधो ह्यसिर्महातीक्ष्णः सर्व क्रोधोअपकर्षति ।।

                                                                (वाल्मीकिरामायण / उत्तरकांड 2/21)

क्रोध प्राण लेने वाला शत्रु है, क्रोध मित्र- सा दिखने वाला शत्रु है,क्रोध अत्यन्त तीखी तलवार है तथा क्रोध सारे गुणों का नाश करता है ।

  • अज्ञान प्रभवो मन्युरहम्मानोपबृंहितः ।

                                                                (श्रीमद्भगवद्गीता 8/19/13)

क्रोध अज्ञान से उत्पन्न होता है और अहंकार से बढ़ता है ।

  • क्रोधाद् भवति सम्मोहः सम्मोहात्स्मृतिविभ्रतः ।

        स्मृतिभ्रंशाद् बुद्धिनाशो बुद्धिनाशात्प्रणश्यति ।।

                                                                  (श्रीमद्भगवद्गीता 2/63)

क्रोध से सम्मोद उत्पन्न होता है यानी अत्यन्त मीढ़ भाव से स्मरणशक्ति में भ्रम हो जाता है, स्मृति में भ्रम हो जाने से मनुष्य स्वयं की स्थिति से गिरकर नष्ट हो जाता है ।

  • मूढानामेव भवति क्रोधो ज्ञानवतां कुतः ।

                                                               (विष्णुपुराण 1/1/17)

मूर्खों को ही क्रोध होता है, ज्ञानियों को कभी नहीं ।

  • देवतेषु प्रयत्नेन राजसु ब्राह्मणेषु च ।

        नियन्तव्यः सदा क्रोधो वृद्धबालातुरेषु च ।।

                                                    (विदुरनीति 6/30)

देवता, ब्रह्मण, राजा, वृद्ध, बालक और रोगी पर होने वाले क्रोध को प्रयत्नपूर्वक रोकना चाहिए ।

  • परा हि मे विमन्यवः पतन्ति वस्य इष्चये ।

        वयो न वसतोरूप ।।

                                              (ऋग्वेद 1/25/4)

क्रोधी व्यक्ति हमसे सदैव वैसे ही दूर रहें जैसे पक्षियों को उड़ा देने से वे एक निश्चित स्थान से दूर चले जाते है, क्योंकि क्रोधी व्यक्ति के पास रहने से स्वभाव उलटा हो जाता है और धर्म की हानि होती है ।

  • वाच्यावाच्यं प्रकुपितो न विजानाति कर्हिचित् ।

        नाकार्यमस्ति क्रुद्धस्य नावाच्यं विद्यते क्वचित् ।।

                                                             (वाल्मीकिरामायण / सुन्दरकांड 55/5)

क्रोधी मनुष्य कैसा भी अपशब्द कभी भी अपने मुंह से निकाल सकता है और बुरे से बुरा कर्म कभी भी कर सकता है ।

  • प्रकृतिकोपस्सर्वकोपेभ्यो गरीयान् ।

                                                  (चाणक्यनीति 13)

प्रकृति का कोप सब कोपों से बड़ा होता है ।

  • त्रिविधं नरकस्येदं द्वारं नाशनमात्मनः ।

        कामः क्रोधस्तथा लोभस्तस्मादेतत्त्रयं त्यजेत् ।।

                                                              (श्रीमद्भगवद्गीता 16/21)

काम, क्रोध और लोभ ये तीनों मनुष्य की आत्मा को अधोगति की ओर ले जाते हैं । इसलिए इनसे सदैव दूर रहना चाहिए ।

  • अकार्य क्रियते मूढैः प्रायः क्रोध समीरितैः ।

                                                   (मत्स्यपुराण 157/3)

प्रायः क्रोध से प्रेरित मूर्ख लोग अकार्य कर बैठते हैं ।

  • धन्याः धलु महात्मानो ये बुद्ध्या कोपमुत्थितम् ।

        निरुंधंति महात्मानो दीप्तमग्निमिवाम्भसा ।।

                                                              (वाल्मीकिरामायण / सुन्दरकांड 55/3)

वे महान् पुरुष धन्य हैं जो उठे हुए  क्रोध को अपनी बुद्धि के द्वारा उसी प्रकार रोक हैं, जैसे दीप्ति अग्नि को जल से रोक दिया जाता है ।

  • भूतैराक्रम्यमाणोअपि धीरो दैववशानुगैः ।

        तद्विद्धन्न चलेन्मार्गादन्वशिक्षं क्षितेर्व्रतम् ।।

                                                              (श्रीमद्भागवत 11/7/37)

पृथ्वी से मैंने धैर्य और क्षमा का गुण सीखा । उस पर लोगबाग कितना उत्पात करते हैं, खोदते हैं, फावड़ा और कुदाली चलाते हैं पर वह न तो किसी से बदला लेती है, न रोती- चिल्लाती है । बुद्धिमान् मनुष्य भी वैसे ही कभी क्रोध नहीं करते, धैर्य नहीं खोते ।

  • अक्रोधेन जयेत् क्रोधम् ।

                                 (विदुरनीति 7/72)

अक्रोध से क्रोध को जीतो ।

  • क्रोधो वैवस्वतो राजा ।

                                (चाणक्यनीति 18/14)

क्रोध यमराज यानी काल है ।

  • अपकारिणी कोपश्चेत्कोपे कोपः कथं न ते ?

                                                       (विदुरनीति 7/72)

यदि आप अपकार करने वाले पर क्रोध करते हैं, तो क्रोध ही पर क्रोध क्यों नहीं करते, जो सबसे अधिक अपकार करने वाला है ।