• कर्ममर्त्या हवाअग्ने देवा आसुः ।

                                                    (शतपथ ब्राह्मण 11/1/2/12)

मनुष्य शुभकर्म करके देव बनते हैं ।

  • कुर्वन्नेवेह कर्माणि जिजीविषेच्छतं समाः ।

         एवं त्वयि नान्यथेतोअस्ति न कर्म लिप्यते नरे ।।

                                                                                            (यजुर्वेद 40/2)

हर मनुष्य को चाहिए कि पूर्णायु भोगने के लिए वह जब तक जिये, शुभ कर्म करते हुए ही जीने की इच्छा रखे । यही उपाय है, इससे अन्य कोई नहीं ।

  • प्राक् कर्मभिस्तु भूतानि भवन्ति न भवन्ति च ।

                                                                                             (महाभारत / स्त्रीपर्व 3/17)

पूर्वजन्म में किए हुए कर्मों के द्वारा प्राणी वृद्धि तथा ह्रास को प्राप्त होते हैं ।

  • अकामस्य क्रिया काचिद् दृश्यते नेह कर्हिचित् ।

         यद्यद्धि कुरुते किंचित् तत्तत् कामस्य चेष्टितम् ।।

                                                                                             (मनुस्मृति 2/4)

कामना से रहित कोई भी क्रिया इस संसार में कभी भी दिखलाई नहीं देती । जो-जो भी कोई कर्म करता है, वह सभी किसी न किसी कामना से प्रेरित होकर ही किया जाता है ।     

  • सुख-दुःखदो न चान्योअस्ति यतः स्वकृत भुक् पुमान् ।

                                                                                       (श्रीमद्भागवत 10/54/38)

सुख-दुःख भोगने वाला मनुष्य अपने किए पूर्व कर्मों का ही फल भोगता है ।

  • नाभुक्तं क्षीयते कर्म कल्पकोटि शतैरपि ।

         अश्वमेव भोक्तव्यं कृतं कर्म शुभाशुभम् ।।

                                                                         (ब्रह्मवैवर्तपुराण / प्रकृति 37/16)

मनुष्य शुभ या अशुभ, जैसे भी कर्म करता है, उनका फल उसे भोगना ही पड़ता है । करोड़ों कल्प बीत जाने पर भी कर्मफल भोगे बिना, मनुष्य को कर्म से छुटकारा नहीं मिल सकता ।

  • कर्मण्येवाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचना ।

         मा कर्मफलहेतुर्भूर्मा ते संगोअस्त्वकर्मणि ।।

                                                                      (श्रीमद्भगवद्गीता 2/47)

आपका मात्र कर्म करने में ही अधिकार है, फल में कभी नहीं । इसलिए आप कर्मों के फल की इच्छा मत करें तथा आपकी कर्म न करने में भी आसक्ति न हो ।

  • यत् करोत्यशुभं कर्म शुभं वा यदि सत्तम ।

         अवश्यं तत् समाप्नोति पुरुषो नात्र संशयः ।।

                                                                                  (महाभारत / वनपर्व 209/5)

मनुष्य जो भी शुभ या अशुभ कार्य करता है, उलका फल उसे अवश्य ऊगना पड़ता है, इसमें संशय नहीं है ।

  • स्वयं कर्म करोत्यात्मा स्वयं तत् फलमश्नुते ।

        स्वयं भ्रमति संसारे स्वयं तस्मात् बुद्धिमुच्यते ।।

                                                                                      (चाणक्यनीति 6/9)

जीव स्वयं ही कर्म करता है, उसका फल भी स्वयं ही भोगता है, स्वयं ही संसार में भ्रमण करता है और स्वयं ही उससे मुक्त भी होता हैं । इससे उसका कोई साझीदार नहीं है ।

  • यदाचरति कल्याणिशुभं वा यदि वा शुभम् ।

         तदेव   लभते   भद्रे   कर्ता   कर्मजमात्मनः

                                                                 (वाल्मीकिरामायण / अयोध्याकांड 63/6)

मनुष्य शुभ या अशुभ, जो भी कर्म करता है, अपने उन कर्मों के शुभ-अशुभ फल का भोक्ता हैता है ।

  • ऐहिकं प्राक्तनं वापि कर्म यद्चितं स्फुरत ।

         पौरुषोअसौ परो यत्नो न कदाचन निषफलः ।।

                                                                             (योगवासिष्ठ 3/95/34)

पुनर्जन्म और इस जन्म के लिए हुए कर्म, फलस्वरूप में अवष्य प्रकट होते हैं । मनुष्य का किया हुआ यत्न, फल लाए बिना नहीं रहता है ।

  • कर्म प्रधान बिश्व करि राखा ।

        जो जस करै सो फल चाखा ।।

        काहु न कोउ सुख-दुख कर दाता ।

        निज कृत करम भोग सब भ्राता ।।

                                                 (श्रीरामचरितमानस / अयोध्याकांड)

विश्व में कर्म ही प्रधान है । जो जैसा करता है, उसे वैसा फल भगना ही पड़ता है । दुनिया में कोई किसी को न दुःख देने में समर्थ है, न सुख देने में । सभी व्यक्ति अपने किए हुए कर्मों का ही फल भोगते हैं ।

  • नाधर्मश्चरितो लोके सद्यः फलति गौरिव ।

         शनैरावर्तमानस्तु कर्तुर्मूलानि कृन्तति ।।

         अधर्मेणैधते तावत्ततो भद्राणि पश्यति ।

        ततः सपत्नांजयति समूलस्तु विनश्यति ।।

                                                                               (मनुस्मृति 4/172, 174)

इस जीवन (संसार) में किया गया अधर्म (अशुभकर्म) तत्काल फल नहीं देता, जैसे बोई हुई पृथ्वी तत्काल फल नहीं देती। वह कुकर्म  क्रमशः पककर कर्ता की जड़ों तक को काट डालता है । अधर्म करने वाला पहले तो बढ़ता है, फलता-फूलता व संपन्न होता है, नौकर-चाकर, धनवैभव के साधनों से संपन्न होता है, अपने ईर्ष्यालु शत्रुओं व प्रतिद्वंद्वियो को जीत भी लेता है, पर अंततः वह जड़ सहित नष्ट हो जाता है ।