• नास्ति वेदात् परं शास्त्रं नास्ति मातृसमो गुरुः ।

         न धर्मात् परमो लाभस्तपो नानशनीत्परम् ।।

                                                                                  (महाभारत / अनुशासनपर्व 106/65)

वेद से बड़ा शास्त्र नहीं है, माता के समान गुरु नहीं है, धर्म से बड़ा लाभ नहीं है तथा उपासना से बड़ी तपस्या नहीं है ।

  • नैनं प्राप्नोति शपथो न कृत्या नाभिशोचनम् ।

         नैनं विष्कन्धमश्नुते यस्त्वा बिभर्त्याञ्जन ।।

                                                                                        (अथर्ववेद 4/9/5)

पवित्र अंतःकरण से की हुई ईश्वर की उपासना से आत्मबल बढ़ता है और सांसारिक सुखों की भी उपलब्धि होती है ।

  • अद्या नो देव सवितः प्रजावत्सावीः सौभगम् ।

         परा                 दुःष्वप्न्यं                    सुव ।।

                                                                                          (ऋग्वेद 5/82/4)

जो ईश्वर की आराधना करे साथ-साथ पुरुषार्थ करते हैं, उनके दुःख व दारिद्र्य दूर होते हैं और ऐश्वर्स बढ़ता है ।

  • तत्सवितुर्वरेण्यं भर्गो देवस्य धीमहि धियो यो नः प्रचोदयात्।

                                                                                                      (यजुर्वेद 30/2)

सत्, चित्, आनंन्दस्वरूप और जगत् के स्त्रष्टा ईष्वर के सर्वोत्कृष्ट तेज का हम ध्यान करते हैं । वह हमारी बुद्धि को शुभ प्रेरणा दें ।

  • स्वस्ति न इन्द्रो वृद्धश्रवाः स्वस्ति नः पूषा विश्ववेदाः ।

         स्वस्तिनस्तार्क्ष्यो अरिष्टनेमिः स्वस्ति नो बृहस्पतिर्दधातु ।।

                                                                                               (सामवेद / उत्तरार्चिक 21/27)

सब ओर फैले हुए सुयश वाले इंद्र हमारे लिए कल्याण का पोषण करें । संपबर्ण विश्व का ज्ञान रखने वाले पूषादेव हमारे लिए कल्याण का पोषण करें । अरिष्टों को मिटाने के लिए चक्र सदित शक्तिशाली गरूड़देव कल्याण का पोषण करें । बृहस्पति भी हमारे लिए कल्याण की पुष्टि करें ।

  • तन्नस्तुरीपमध पोषयित्नु देव त्वष्टर्वि रराणः स्यस्व ।

         यतो वीरः कर्मण्यः सुदक्षो युक्तग्रावा जायते देवकामः ।।

                                                                                                             (ऋग्वेद  7/2/9)

ईश्वर उपासना के द्वारा हमें बल और वीर्य प्राप्त हो और पराक्रम में वृद्धि हो ।

  • तमेव चार्चयन् नित्यं भक्त्या पुरुषमव्ययम् ।

         ध्यायन् स्तुवन्नमस्यंश्च यजामानस्तमेव च ।।

         अनादि निधनं विष्णुं सर्वलोक महेश्वरम् ।

         लोकध्यक्षं स्तुवन् नित्यं सर्वदुःखातिगो भवेत् ।।

                                                                               (महाभारत / अनुशासनपर्व 149/5-6)

जो मनुष्य उस अविनाशी परम पुरुष का सदा भक्तिपूर्वक पूजन और ध्यान करता है तथा स्तवन और नमस्कारपूर्वक उसी की उपासना करता है, वह साधक उस अनादि, अनंत, सर्वव्यापी, सर्वलोक माहेश्वर, अखिलाधिपति परमात्मा की नित्य स्तुति करता हुआ संपूर्ण दुःखों से पार हो जाता है ।

  • असतो मा सद्गमय तमसो मा ज्योतिर्गमय ।

         मृत्योर्मामृतं गमय ।

                                                                                   (बृहदारण्यक उपनिषद् 1/3/28)

हे ईश्वर! मुझे असत् से सत् की ओर ले जाओ । मुझे अंधकार से प्रकाश की ओर ले जाओ । मुझे मृत्यु से अमरता की ओर ले जाओ ।

  • अश्वत्थे वो निषदनं पर्णे वो वसतिष्कृता ।

          गोभाजअइत्किलासथ यत्सनथ पूरुषम् ।।

                                                                              (यजुर्वेद 35/4)

यह संसार क्षणभंगुर नाशवान् है । यहां किसी पदार्थ में सच्चा सुख नहीं है । आत्मा-परमात्मा के संयोग से उत्पन्न सुख ही सच्चा सुख है । अतएव हमें सदा परमात्मा देव की उपासना करनी चाहिए ।

  • इन्द्रं मित्रं वरुणमग्निमाहुरथो दिव्यः स सुपर्णो गरुत्मान् ।

         एकं सद् विप्रा बहुधा वदन्त्यग्निं यमं मातरिश्वानमाहुः ।।

                                                                                                             (अथर्ववेद 9/15/28)

परमात्मा की विभिन्न शक्तियां ही अनेक देवताओं के नाम से पुकारी जाती हैं । पर वह हैं एक ही, इसलिए गुण कर्म स्वभाव के अनुसार उस परमात्मा की अपासना करें ।

  • ईयुष्टे ये पूर्वतरामपश्यन्व्याभूदो ते यन्ति ये अपरीषु पश्यान् ।।

         अस्माभिरू नु प्रतिचक्ष्याभूदो यन्ति ये अपरीषु पश्यान् ।।

                                                                                                     (ऋग्वेद 1/113/11)

जो मनुष्य उषाकाल से पहले उठकर नित्य कर्म करके ईश्वर की उपासना करते हैं, वे बुद्धिमान और धरमाचरण करने वाले होते हैं । जो स्त्री-पुरुष ईश्वर का ध्यान करके परस्पर प्रीतिपूर्वक बोलते हैं वे अनेक प्रकार के सुख प्राप्त करते हैं ।

  • भौममनोरथं स्वर्गे स्वर्गे रम्यं च यत् पदम् ।

         प्राप्नोत्याराधिते विष्णुः निर्वाणमपि चौत्तमम ।।

                                                                                  विष्णुपुराण 3/8/6)

भगवान् विष्णु की अराधना करने पर मनुष्य भूमंडल संवंधी समस्त मनोरथ, स्वर्ग, स्वर्ग से भी श्रेष्ठ ब्रह्मपद और परम निर्वाणपद भी प्राप्त कर लेता है ।

  • यदेव श्रद्धया जुहोति तदेव वीर्यवत्तरं भवेति ।

                                                                                      (छांदोग्योपनिषद्)

श्रद्धापूर्वक की गई प्रार्थना ही फलवती होती है, अतः भावना जितनी सच्ची, गहरी और श्रद्धापूर्ण होगी, उतना ही उसका सत्परिणाम भी होगा ।

  • परि माग्ने दुश्चरिताद्वाधस्वा मा सुचरिते भज ।

         उदायुषा    स्वायुषोदस्थाममृतांअअनु ।।

                                                                             (यजुर्वेद 4/28)

हम परमात्मा से सच्चे हृदय से प्रार्थना करें “प्रभो! हमें दुराचार से छुड़ाकर सदाचार की ओर बढ़ाओ, अधर्म से बचाकर धर्मशील बनाओ ।”

  • इंद्रा युवं वरूणा भूतमस्या धियः प्रेतारा वृषभेव धेनोः ।

         सा नो दुहीयद्यवसेव गत्वी सहस्त्रधारा पयसा मही गौः ।।

                                                                                                            (ऋग्वेद 4/41/5)

हमारी प्रार्थना में बल हो, भावना है ताकि देवता हमारी अभीष्ट कामना पूरी करें ।