• अग्ने शर्ध महते सौभगाय ।

ऐश्वर्य उत्साही मनुष्य का पैर चूमता है अर्थात् जो व्यक्ति उत्साही और कर्मनिष्ठ है, उसके पास दरिद्रता कभी नहीं फटकती ।

  • निरुत्साहद् दैवं पतित ।

                                               (चाणक्यसूत्र 196)

उत्साह के विना निश्चित सफलताएं भी हाथ से बाहर ही रह जाती हैं ।

  • अनिर्वेदो हि सततं सर्वार्थेषु प्रवर्तकः ।

करोति सफलं जन्तोः कर्मयच्च करोति सः ।।

                                                                                 (वाल्मिकीरामायण / सुंदरकांड 12/11)

उत्साह ही प्राणियों को हमेशा सभी प्रकार के कर्मों में प्रवृत्त करता है । उत्साह ही उन्हें जो कुछ वे करते हैं, उस कार्य में सफलता प्रदान करता है ।                               

  • सुखं वा यदि वा दुःख प्रियं वा यदि वाअप्रियम् ।

          प्राप्तुं प्राप्तमुपासीत हृदयेनापराजितः ।।

                                                                  (महाभारत / शांतिपर्व 25/26)

सुख हो अथवा दुःख, प्रिय हो अथवा अप्रिय, जो-जो मिलता जाए उस-उस का सेवन करें । हृदय से हारें नहीं यानी उत्साह न छोंड़ें ।

  • तेजोअसि तेजो मयि धेहि । वीर्यमसि वीर्यं मयि धेहि ।

                                                                                   (यजुर्वेद 19/9)

हे प्रभु ! तू तेज है, मेरे अंदर वह तेज (उत्साह) स्थापित कर ।

  • क्लैब्यं मा स्म गमः पार्थ नैतत्त्वय्युपपद्यते ।

         क्षुद्रं हृदयदौर्बल्यं त्यक्त्वोत्तिष्ठ परन्तप ।।

                                                                                (श्रीमद्भगवद्गीता 2/3)

हे अर्जुन ! नपुंसकता को मत प्राप्त हो, तुझमें यह उचित नहीं जान पड़ती । शत्रुओं को पीड़ा पहुंचाने वाले अपने मन की तुच्छ दुर्बलता को छोड़कर युद्ध के लिए खड़ा हो जा । तात्पर्य यह है कि जीवन के संघर्ष में सफलता पाने के लिए व्यक्ति में उत्साह होना आवश्यक है, यही नहीं वरन् उसमें अपने सहयोगियों और अपने साथ कार्य करने वालों को भी उत्साहित करने की सामर्थ्य होनी चाहिए ।

  • उत्साहो बलवानार्य नास्त्युत्साहात्परं बलम् ।

          सोत्साहस्य हि लोकेषु न किंचिदपि दुर्लभम् ।।

                                                                 (वाल्मीकिरामायण / किष्किन्धाकांड 1/121)

उत्साह ही बलवान होता है । उत्साह से बढ़कर दूसरा कोई बल नहीं, उत्साही पुरुष के लिए संसार में कोई भी वस्तु दुर्लभ नहीं है ।

  • निरुत्साहस्य दीनस्य शोकपर्याकुलात्मनः ।

          सर्वार्था व्यवसीदन्ति व्यसनं चाधिगच्छति ।।

                                                                                      (वाल्मीकिरामायण / युद्धकांड 2/6)

जो पुरुष निरुत्साही व दीन है, शोक से व्यवस्थित रहता है, उसके सारे काम बिगड़ जाते हैं और वह विपत्ति में पड़ जाता है ।

  • अनिर्वेदः श्रियो मूलमनिर्वेदः परं सुखम् ।

                                                                      (वाल्मीकिरामायण / सुन्दरकांड 12/10)

उत्साह ही श्री का मूल कारण है । उत्साह ही परम सुख है ।

  • उत्साहवन्तः पुरुषा नावसीदन्ति कर्मसु ।

                                                                         (वाल्मीकिरामायण / किष्किन्धाकांड 1/22)

जिनके हृदय में उत्साह होता है, वे पुरुष कठिन से कठिन कार्य आ पड़ने पर हिम्मत नहीं हारते ।