• एकं सद्विप्रा बहुधा वदन्ति

                                                      (ऋग्वेद 1/164/46)

एक ही परमात्मा को ज्ञानि लोग अनेक नामों से पुकारते हैं । अनेक नामों के देवता ईश्वर के ही विभिन्न नाम हैं ।

  • ईशावास्यमिदं सर्वं यक्तिं च जगत्यां जगत् ।

                                                             (यजुर्वेद 40/1)

इस सारे संसार के सभी पदार्थों में व्यापक है अर्थात् सब कुछ ईश्वरमय है ।

  • वस्यो भूयाय वसुमान् यज्ञो वसु वंशिषीय वसुमान् भूयासं वसु मयि धेहि ।।

                                                                                                                      (अथर्ववेद 16/9/4)

 मनुष्यों ! ईश्वर पर आस्था रखो और परोपकार करते हुए श्रेष्ठ पद प्राप्त करो ।

  • अग्निस्तिगमेन शोचिषा यं सद्विश्वं न्यत्रिणम् अग्निर्नो वंसते रयिम् ।।

                                                                                                           (समावेद/पूर्वार्चिक 1/3/2)

परमात्मा सदैव सबके साथ न्याय करता है । वह दुष्ट दुराचारी पुरुषों को दंड देता है और धर्मात्माओं को उनके कर्मानुसार सुख बांटता है ।

  • पवित्राणां पवित्रं यो मंगलानां च मंगलम् ।

          दैवतं देवतानां च भूतानां यो व्ययः पिता ।।

                                                                          (महाभारत/अनुशासनपर्व 149/10)

जो पवित्रों का परम पवित्र है, मंगलों का मंगलकारी है, देवों का महादेव है और प्राणियों का अविनाशी पिता है, उसे ईश्वर कहते हैं ।

  • नह्येष दूरे नाभ्याशे नालभ्यो विषमे न च ।

          स्वानन्दाभासरूपोअसौ स्वदेहादेव लभ्यते ।।

                                                                                (योगवासिष्ठ 3/6/3)

परमात्मा न तो हमसे बहुत दूर है और न ही कठिनाई से प्राप्त होता है । वह अपनी देह के भीतर ही है और आत्मानंद के रूप में प्रत्यक्ष है ।

  • ईश्वरः सर्वभूतानां हृद्देशेर्जुन तिष्ठति ।

          भ्रामयन्सर्वभूतानि यंत्रारुढानि मायया ।।

                                                                                        (श्रीमद्भगवद्गीता 18/61)              शरीर रूपी यंत्र में आरूढ़ हुए संपूर्ण प्राणियों को अंतर्यामी परमेश्वर अपनी माया से उनके कर्मों के अनुसार भ्रमण कराता हुआ सब प्राणियों के हृदय में स्थित है ।

  • रूपं रूपं प्रतिरूपो बभूव ।

                                                    (ऋगवेद 6/47/18)

परमात्मा ने प्रत्येक रूप के अनुरूप अपना रूप बना लिया ।

  • न शास्त्रैर्नापि गुरूणा दृश्यते परमेश्वरः ।

         दृश्यते स्वात्मनैवात्मा स्वया सत्त्वस्थया धिया ।।

                                                                                                    (योगवासिष्ठ 6/118/4)

परमात्मा का दर्शन म शास्त्र करा सकते हैं, न गुरू । उनका दर्शन तो अपनी आत्मा को स्वस्थ बनाने से ही होता है ।

  • न चक्षुषा गृह्यते नापि वाचा नार्न्येर्देवैस्तपसा कर्मणा वा ।

          ज्ञानप्रसादेन विशुद्धसत्वस्ततस्तुतं पश्यते निष्कलं ध्यायमानः ।।

                                                                                                       (मुंडकोपनिषद् 3/1/8)

आंखो से न दिखाई देने वाला परमात्मा विमल मन से ध्यान द्वारा देखा जा सकता है ।

  • पर्यगाच्छुक्रमकायमव्रणमस्नाविरं शुद्धमपापविद्धम् ।

          कविर्मनीषी परिभूः स्वयम्भूर्याथातथ्यतोअर्थान्व्यदाच्छाश्वतीभ्यः समाभ्यः ।।

                                                                                                           (ईश-उपनिषद् 8)

वह परमात्मा आकाश की तरह सर्वत्र  व्याप्त है, शुद्ध है । उसका कोई शरीर नहीं है, वह अक्षत और स्नायुरहित है । निर्मल और पाप से मुक्त है । सबसे अच्छा भी वही है, वही स्वयंभू है । अपनी उत्पत्ति का कारण वह आप ही है । उसी ने संसार में यथासोग्य कर्त्तव्यों और पदार्थों का विभाजन किया है ।

  • अवहितं देवा उन्नयथा पुनः ।

                                                   (ऋगवेद 10/137/1)

जो गिरे हुओं को  फिर से उठाते हैं, वे देव हैं ।

  • यो वा अनन्तस्य गुणाननन्ताननुक्रमिष्यन् स तु बालबुद्धिः ।

          रजांसि भूमेर्गणयेत् कथंचित् कालेन नैवाखिलशक्तिधान्यः ।।

                                                                                                               (श्रीमद्भागवत 11/4/2)

भगवान अनंत है । उनके गुण भी अनंत हैं । जो यह सोचता है कि उनके गुणों को गिन लूंगा, वह मुर्ख है, बालक है । यह तो संभव है कि कोई किसी प्रकार पृथ्वी के धूलिकणों को गिन ले, परंतु समस्त शक्तियों के आश्रय भगवान् के अनंत गुणों का कोई भी किसी प्रकार पार नहीं पा सकता ।

  • नैवायं चक्षुषा ग्राह्यो नापरैरिन्द्रियैरपि ।

          मनसैव प्रदीप्तेन महानात्मावसीयते ।।

         तिलेषु वा यथा तैलं दध्निं वा सर्पिरर्पितम् ।

         यथापः स्त्रोतसि व्याप्ता यथारण्यां हुताशनः ।।

         एवमेव महात्मानमात्मन्यन्यात्मविलक्षणम् ।

         सत्येन तपसा चैव नित्ययुक्तोअनुपश्यति ।।

                                                                              (शिवपुराण  / अध्याय 6)

वह ईश्वर न तो आंखों से देखा जा सकता है, न अन्य इंन्द्रियों से ग्रहण किया  जा सकता है । प्रकाशित मन से ही वह महान् आत्मा प्राप्त किया जा सकता है; जैसे तिलों में तेल व दही में घृत छुपा रहता है । उसको योगी सत्य और तप से नित्य अपनी आत्मा में देखा करता है ।