• रथः शरीरं पुरूषस्य राजन्नात्मा नियन्तेन्द्रियाण्यस्य चाश्वाः।

          तैरप्रमत्तः कुशली सदश्वैर्दान्तैः सुखं याति रथीव धीरः ।।

                                                                               (विदुरनीति 2/59)

मनुष्य का शरीर रथ है, बुद्धी सारथि है और इंद्रियां इसके घोड़े हैं । इनको वश में करके सावधान रहने वाला चतुर एवं धीर पुरुष काबू में किए हुए घोड़ो से रथी की भांति सुखपूर्वक यात्रा करता है ।

  • इन्द्रियवशवर्ती चतुरंगवानपि विनश्यति ।

         इन्द्रियाणि जरावंश कुर्वन्ति ।।

                                                            (चाणक्यसूत्र 304)

इंद्रियों के इशारे पर चलने वाला राजा सब प्रकार से शक्तिशाली होने पर भी नष्ट हो जाता है । इंद्रिय-आसक्त की बुद्धि कुंठित हो जाने के कारण महत्त्वपूर्ण कार्य कर ही नहीं सकता । इंद्रियो का मर्यादाहीन उपयोग मनुष्य को समय से पहले बुढ़ापे के अधीन कर देता है ।

  • निगृहीतेतेन्द्रियग्रामो यत्रैव च ।

          तत्र यस्य कुरुक्षेत्रं नैमिषं पुष्कराणि च ।।

                                                                                  (व्यासस्मृति 4/31)

इंद्रियो को बुरे विषयों से रोककर जिस घर में रहें, तो वही घर उसका कुरुक्षेत्र, नैमिषारण्य और पुष्कर आदि तीर्थ है ।

  • ये हि संस्पर्शजा भोगा दुःखयोनय एव ते ।

          आद्यन्तवन्तः कौन्तेय न तेषु रमते बुधः ।।

                                                         (श्रीमद्भागवद्गीता 5/22)

जो इंद्रिय तथा विषयों के संयोग से उत्पन्न होने वाले सब भोग हैं, यद्यपि विषयी पुरुषों को सुखरूप भासते हैं तो भी सब दुःख के ही हेतु हैं और आदि-अंत वाले अर्थात् अनित्य हैं । इसलिए बुद्धिमान् व विवेकी पुरुष उसमें नहीं रमता ।

  • इन्द्रियाणां प्रसंगेन दोषमृच्छत्यसंशयम् ।

          संनियम्य तु तान्येव ततः सिद्धिं नियच्छति ।।

                                                                                (मनुस्मृति 2/93)

मानव इंद्रियों के विशेष संग से दोषों को प्राप्त कर दोषी बन जाता है, परंतु इंद्रियो को काबू में रखने से वही मनुष्य सिद्धी प्राप्त कर सकता है ।

  • वर्च आ धेहि मे तन्वां सह ओजो वयो बलम् ।

          इन्द्रियाय त्वा कर्मणे वीर्याय प्रतिगृह्णामि शतशारदाय ।।

                                                                                                                (अथर्ववेद 19/37/2)

हमारी इंद्रियां शक्तिशाली रहें, हम पराक्रमी हों, इसके लिए शरीर में ओज, कांति, जीवन शक्ति, सहनशीलता आदि को धारण किए रहें । इस प्रकार हम सौ वर्ष तक जिएं ।

  • धर्मार्थौ यः परित्यज्य स्यादिन्द्रियवशानुगः ।

          श्रीप्राणधनदारेभ्यः क्षिप्रं य परिहीयते ।।

                                                      (विदुरनीति 2/62)

जो धर्म और अर्थ का परित्याग करके इंद्रियों के वश में हो जाता है, वह शीघ्र ही ऐश्वर्य, प्राण, धन तथा स्त्री से भी हाथ धो बैठता है ।

  • इन्द्रियाणां हि चरतां यन्मनोअनु विधीयते ।

          तदस्य हरति प्रज्ञां वायुर्नावमिवाम्भसि ।।

                                                     (श्रीमद्भगवद्गीता 2/67)

जैसे जल में चलने वाली नाव को वायु हर लेती है, वैसे ही विषयों में विचरती हुई इंद्रियों में से मन जिस इंद्रिय के साथ रहता है, वह एक ही इंद्रिय इस अयुक्त पुरुष की बुद्धि को हर लेती है ।

  • वि मे कर्णा पतयतो वि चक्षुर्वीदं ज्योतिर्हृदय आहितं यत् ।

         वि मे मनश्चरति दूरआधीः किं स्विद्वक्ष्यामि किमु नू मनिष्ये ।।

                                                                                                               (ऋग्वेद 6/9/6)

मनुष्य की इंद्रियां  कभी एक ही दिशा में स्थिर नहीं रहतीं । अवसर मिलते ही अपने विषयों की ओर दौड़ती है इसलिए मनुष्यों को चाहिए कि वे इंद्रियों की विषय-लोलुपता के प्रति सदैव सावधान रहें ।