• इच्छन्ति देवाः सुन्वन्तं न स्वप्नाय स्पृहयन्ति ।

         यन्ति प्रमादमतन्द्राः  ।।

                                      (ऋग्वेद 8/2/18)

श्रेष्ठता और ऐश्वर्य सदैव पुरूषार्थी को मिलता है, ऐलसी व्यक्ति का कोई भी सम्मान नहीं करता । सुख प्राप्ति के लिए आलस्य रहित होना अनिवार्य है ।

  • आलस्यं हि मनुष्याणां शरीरस्थो महान् रिपुः ।

                                                           (भर्तृहरि नीतिशतक 87)

आलस्य मनुष्य के शरीर में रहने वाला उसी मनुष्य का घोर शत्रु है ।

  • सुखं दुःखान्तमालस्य दाक्ष्यं दुःखं सुखोदयम् ।

          भूतिः श्रीह्रीर्धृतिः कीर्तिर्दक्षे वसति नालसे ।।

                                                            (महाभारत/शांतिपर्व 27/31)

आलस्य सभी दुःखों की जड़ है । श्री, ह्री, धृति, कीर्ति तथा भूति का वास दक्ष पुरूषार्थी प्राणी में ही होता है, आलसी में नहीं ।

  • अकृतेर्नियता क्षुत् । अलब्धलाभो नालस्य ।

                                                             (चाणक्यसूत्र 302)

अकर्मण्य विकम्मे आलसी मनुष्य भूखों मरते हैं । यदि दैव आलसी को कुछ दे भी दे तो उससे उसकी दी हुई वस्तु की रक्षा भी नहीं होती ।

  • वीरयध्वं प्र तरता सखायः ।

                                            (अथर्ववेद 12/2/26)

उद्योग पुरूष ही सफलता को प्राप्त होते हैं । पुरूषार्थी व्यक्तियों की नाव बीच में कभी नहीं डूबती है ।

  • न पंचभिर्दशभिर्वष्ट्यारभं नासुन्वता सचते पुष्यता चन ।

          जिनाति वेदमुया हन्ति वा धुनिरा देवयुं भजति गोमति व्रजे ।।

                                                                                        (ऋग्वेद 5/34/5)

आलसी मनुष्य अपना पुरूषार्थ गंवा देते हैं, जिससे उन्हें कहीं भी सफलता नहीं मिलती । उन्हें सभी ओर निराशा के ही दर्शन करने पड़ते हैं।

  • अव मा पाप्मन्त्सृज वशी सन् मृडयासि नः ।

         आ मा भद्रस्य लोके पाप्मन् धेह्यविह्रुतम् ।।

                                                           (अथर्ववेद 6/26/1)

जीवन में अनेकों विघ्न बाधाऐं आती हैं । जो इन्हें प्रयत्नपूर्वक हटाते हुए पर विचलित नहीं होते, वे ही पुरूषार्थी आनन्द पाते हैं ।

  • अलक्ष्मीराविशत्येनं शयानमलसं नरम् ।

          निःसंशयं फलं लब्धा दक्षो भूतिमुपाश्नुते ।।

                                                     (महाभारत/वनपर्व 32/42)

आलसी व अधिक सोने वाले मनुष्य को दरिद्रता प्राप्त होती है तथा कार्य कुशल मनुष्य ही मनचाहा फल पाकर ऐश्वर्य का उपभोग करता है ।

  • विहितस्याननुष्ठानान्निन्दितस्य च सेवनात् ।

          अनिग्रहाच्चेन्द्रियाणां नरः पतनमिच्छति ।।

                                                      (याज्ञवल्क्यस्मृति/प्रायश्चित 2/9)

सुख एवं दुःख – विनाश यं जीव के दो स्वतः पुरूषार्थ हैं अर्थात् अभिलाषा के विषय हैं । ये दोनों साध्य हैं, अन्य किसी के साधन नहीं हैं । धर्म, अर्थ, काम एवं मोक्ष – ये चारों सुख और दुःखभाव के साधन होने से पुरूषार्थ माने गए हैं । ये स्वतः पुरूषार्थ नहीं हैं । इनमें धर्म, अर्थ, काम – ये तीनों सुख के साधन होने से पुरूषार्थ हैं । मोक्ष दुःखभाव का साधन होने से पुरूषार्थ है ।

  • रुहो रुरोह रोहितः ।

                           (अथर्ववेद 13/3/26)

उन्नति उसकी होती है जो सदैव प्रयत्नशील है । भाग्य भरोसे बैठे रहने वाले आलसी सदा हीन-हीन ही रहेंगे ।