• आचारात्प्राप्यते स्वर्गमाचारात्प्राप्यते सुखम् ।

         आचारात्प्राप्यते मोक्षमाचारात्किं न लभ्यते ।।

                                                      (नारदपुराण/पूर्वभाग 4/27)

आचार से स्वर्ग मिलता है । आचार से सुख मिलता है । आचार से मोक्ष मिलता है । आचार से क्या-क्या नहीं मिलता?

  • यः शास्त्रविधिमुत्सृज्य वर्तते कामकारतः ।

         न स सिद्धिमवाप्नोति न सुखं न परां गतिम् ।।

                                                          (श्रीमद्भागवद्गीता 16/23)

जो पुरूष शास्त्रविधि को त्यागकर अपनी इच्छा अनुसार मनमाना आचरण करता है, वह न तो सिद्धि को प्राप्त होता है, न परमगति को और न ही सुख को प्राप्त कर पाता है ।  

  • इदमुच्छ्रेयोअवसानमागां शिवे मे द्यावापृथिवी अभूताम् ।

         असपत्नाः प्रदिशो मे भवन्तु न वै त्वा द्विष्मो अभयं नो अस्तु ।।

                                                                                     (अथर्ववेद 19/14/1)

जिस मनुष्य का व्यवहार मधुर होता है उसका कोई विरोध नहीं करता । जो किसी से द्वेष नहीं करता, उसे किसी प्रकार का भय नहीं होता । ऐसे मनुष्यों को अनेकों सुख स्वयमेव मिलते रहते हैं ।

  • मधुमतीरोषधीर्द्याव आपो मधुमन्नो भवत्वन्तरिक्षम् ।

         क्षेत्रस्य पतिर्मधुमान्नो अस्त्वरिष्यन्तो अन्वेनं चरेम ।।

                                                                        (ऋग्वेद 4/57/3)

 

दूसरों के साथ भी हम वैसा ही उत्तम व्यवहार करें जैसा हम स्वयं औरों से अपेक्षा करते हैं । व्यावहारिक जीवन जीना ही सच्ची नीति है ।

  • मंगलाचारयुक्तानां नित्यं च प्रयतात्मनाम् ।

         जपतां जुह्वतां चैव विनिपातो न विद्यते ।।

                                                      (मनुस्मृति)

प्रतिदिन शुभ आचरण करने और मन को वश में रखने वालों का तथा जप और होम करने वालों का कभी पतन नहीं होता ।

  • यस्मिन् यथा वर्तते यो मनुष्यः तस्मिन् तथा वर्तितव्यं स धर्मः ।

         मायाचारो मायया वर्तितव्यः साध्वाचारः  साधुना प्रत्युपेयः ।।

                                                                                     (विदुरनीति 5/7)

जो मनुष्य जिसके साथ जैसा वर्ताव (व्यवहार) करे, उसके साथ वैसा ही बर्ताव करना चाहिए – यही नीति धर्म है । कपट का आचरण करने वाले के साथ कपटपूर्ण बर्ताव करें और अच्छा बर्ताव करने वाले के साथ साधु-भाव से ही बर्ताव करना चाहिए ।

  • आत्मायत्तौ वृद्धिविनाशौ

                             (चाणक्यसूत्र 87)

मनुष्य की वृद्धि और विनाश उसके अपने व्यवहार पर निर्भर करता है ।

  • यो यथा वर्तते यस्मिन् तस्मिन्नेव प्रवर्तयन् ।

         नाधर्म समवाप्नोति स चाश्रेयश्च विदन्ति ।।

                                                         (महाभारत/उद्योगपर्व 178/53)

जो जैसा व्यवहार करता है, उसके साथ वैसा ही व्यवहार करने वाला पुरूष न तो अधर्म को प्राप्त होता है और न ही अमंगल का ही भागी होता है ।

  • अनुचित उचित काज कछु होई । समुझि करिय भल कह सब कोई ।।

                                                                                  (गोस्वामी तुलसीदास)

उचित अथवा अनुचित जो भी काम हो उसे खूब सोच-समझकर , विचार करके करना चाहिए । सभ्य लोग ऐसे व्यवहार को अच्छा कहते हैं ।

  • आचारो भूतिजनन आचारः कीर्तिवर्धनः ।

         आचाराद् वर्धते ह्यायुराचारो हन्त्यलक्षणम् ।।

                                                        (महाभारत/अनुशासनपर्व 104/154)

सदाचार कल्याण उत्पन्न करने वाला और कीर्ति बढ़ाने वाला होता है । सदाचार से आयु बढ़ती है तथा सदाचार ही बुरे लक्षणों को नष्ट करता है ।

  • आचाराल्लभते ह्यायुराचारादीप्सिताः प्रजाः ।

         आचाराद्धनमक्षय्यमाचारो हन्त्यलक्षणम् ।।

                               (मनुस्मृति 4/156)

आचार से मनुष्य बड़ी आयु प्राप्त किया करता है । आचार शुद्ध होने से ही मनचाही सन्तान प्राप्त करता है । आचार से ही अक्षयधन-लाभ मिलता है और आचार ही बुरे लक्षणों को भी नष्ट कर देता है ।

  • अभ्रातरो न योषणो व्यन्तः पतिरिपो न जनयो दुरेवाः ।

         पापासः सन्तो अनृता असत्या इदं पदमजनता गभीरम् ।।

                                                                           (ऋगवेद 4/5/5)

जो मनुष्य छल और कपटपुर्ण आचरण करते हैं वही संसार में घृणा और निन्दा फैलाते हैं । इसलिए मनुष्य को चाहिए कि वह सदैव सत्य का ही अनुसरण करे ।

  • सर्वलक्षण हीनोअपि यः सदाचार वान्नरः ।

         श्रद्धाधानोअनसूयश्च शतं वर्षानि जीवति ।।

                                          (विष्णु स्मृति 71)

सब लक्षणों से हीन होने पर भी सदाचारवान्, श्रद्धावान तथा ईर्ष्यान करने वाला व्यक्ति सौ वर्षों तक जीवित रहता है ।

  • आचारः परमो धर्मः श्रुत्युक्तः स्मार्त एव च ।

         तस्मादस्मिन्सदा युक्तो नित्यं स्यादात्मवान्दिनजः ।।

         आचारादि व्यक्तो विप्रो न वेदफलामश्नुते ।

         आचरेण तु संयुक्तः सम्पूर्ण फल भाग्भवेत ।।

                                                        (मनुस्मृति 1/108-109)

आचार को धर्म न कहकर परमधर्म कहा गया है । आचार समाज की आधारशिला है । पिता-पुत्र, पति-पत्नि, भाई-बहिन और अन्य सामाजिक बन्धन कर्तव्य की भावना के बल पर ही प्राचीन काल से चले आ रहे हैं। आचार से गिरा हुआ व्यक्ति वेद के फल को प्राप्त नहीं करता, आचार से युक्त व्यक्ति सम्पुर्ण फल को प्राप्त करने वाला होता है ।