• आहारप्रभवाः प्राणाः ।

                                (महाभारत / वनपर्व 260/25)

                                (महाभारत / वनपर्व 260/25)

भोजन से ही प्राणों की रक्षा होती है ।

  • सर्वो वा एष जग्धपाप्मा यस्यान्नमश्नन्ति ।

                                                                  (अथर्ववेद 9/7/8)

वह मनुष्य निष्पाप हो जाता है, जिसका अन्न कई प्राणी खोते हैं ।

  • अन्नाद् भवन्ति भूतानि पर्जन्यादन्नसंभवः ।

          यज्ञाद् भवति पर्जन्यो यज्ञः कर्मसवुद्भवः ।।

                                                         (श्रीमद्भागवद्गीता 3/14)

संपुर्ण प्राणी अन्न से उत्पन्न होते हैं, अन्न की उत्पत्ति वर्षा से होती है, वर्षा यज्ञ से होती है और यज्ञ सत्कर्मों से उत्पन्न होने वाला है ।

  • भुञ्जानो मनुजव्याघ्र नेव शंकां समाचरेत् ।

                                                                    (महाभारत/अनुशासनपर्व 104/99)

हे पुरूषश्रेष्ठ !भोजन करते हुए कभी भी संदेह न करो कि मुझे यह पचेगा या नहीं ।

  • पूजितं ह्यशनं नित्यं बलमूर्जं च यच्छति ।

          अपूजितं तु तद्भुक्तमुभयं नाशयेदिदम् ।।

                                                            (मनुस्मृति 2/55)                                                                                                नित्य पूजित हुआ अन्न बल और ऊर्जा को प्रदान करता है । जो अन्न पूजित नहीं होता है, उसे खा लिया जाए तो उक्त दोनों का नाश कर देता है ।

  • तेजो बलं च रूपं च सत्वं वीर्य धृतिर्द्यतिः ।

          ज्ञानमेधा तथाअयुश्च सर्वमन्ने प्रतिष्ठितम् ।।

                                                                     (महाभारत)

तेज, बल, रूप, वीर्य, बुद्धि, कांति, मेधा तथा आयु ये सब पवित्र अन्न पर निर्भर करते हैं ।

  • अन्नं ब्रह्म यतः प्रोक्तमन्ने प्राणाः प्रतिष्ठिताः ।

         अन्नाद् भवन्ति भूतानि जगद्न्नेन वर्तते ।।

         अन्नमेव ततो लक्ष्मीरन्नमेव जनार्दनः ।।

                                                                (श्रीमत्स्यपुराण 83/42-43)

अन्न ब्रह्मस्वरूप है क्योंकि अन्न में प्राणियों के प्राण प्रतिष्ठित रहते हैं और अन्न से ही प्राणी उत्पन्न होते हैं, अतः अन्न स्वयं भगवान विष्णु एवं लक्ष्मी का स्वरूप है ।

  • दीपो भक्षयते ध्वान्तं कज्जलं च प्रसूयते ।

          यदन्न भक्षयेन्नित्यं जायते तादृशी प्रजा ।।

                                                               (चाणक्यनीति 8/3)

दीपक अंधेरे को दूर कर देता है और काजल को उत्पन्न कर देता है, इसी प्रकार जो मनुष्य जैसा अन्न खाता है, उसकी वैसी ही सन्तान उत्पन्न होती है।

  • स भारः सौम्य भर्तव्यो यो नरं नावसीदयेत् ।

          तदन्नमपि भक्तव्यं जीर्यते यदनामयम्

                                                                      (रामायण)

जैसे जिस बोझ को मनुष्य द्वारा उठाने व ढोने से थकान उत्पन्न नहीं होती ,उसी बोझ को उठाना – ढोना चाहिए, वैसे ही जो अन्न  सेवन करने पर विकार उत्पन्न न करके पच जाए, वही अन्न सेवन करना चाहिए ।

  • कृते चास्थिगताः प्राणास्त्रेतायां मांससंस्थिताः ।

          द्वापरे रुधिरं यावत् कलावन्नादिषु स्थिताः ।।

                                                                                 (पाराशरस्मृति 1/30)

सत्य युग में प्राण हड्डियों में, त्रेता में मांस में, द्वापर में रुधिर में, किन्तु कलियुग में तो प्राण अन्नादि में ही स्थित रहते हैं । अर्थात् कलियुग में अन्न न मिलने पर प्राण का नाश हो जाता है ।

  • वारिदस्तृप्ति माप्नोति सुखमक्षयमन्नदः ।

                                                                  (मनुस्मृति/गृहस्थ 229)

जल का दान करने वाला पूर्ण सन्तुष्टि प्राप्त करता है और अन्न का दान करने वाला अक्षयसुखकी प्राप्ति करता है ।

  • यद्वा आत्मसम्मितमन्नं तदवति । तन्न हिनस्ति ।।

          यद् भूयो हिनस्ति तद् । यत्कनीयोन तदवति ।।

                                                                                     (शतपथ ब्राह्मण)

जो अन्न मात्रा में भूख के अनुकूल होता है, वह संतोष को बढ़ाता है यानी तृप्तिकारक होता है और शरीर की रक्षा करता है । अर्थात् हानि नहीं करता । अधिक अन्न हानि करता है, जबकि मात्रा से कम सेवन करने पर संतोष प्रहान नहीं करता ।

  • शिवो ते स्तां व्रीहियवावबलासावदोमधौ ।

          एतौ यक्ष्मं वि बाधेते एतौ मुञ्चतौ अंहसः ।।

                                                           (अथर्ववेद 8/2/18)

हे मनुष्य! धान्य (चावल) और जौ मेरे लिए लाभकारी, बलकारी, कफदोषों को दूर करने वाले और खाने के लिए मशहूर हैं । ये दोनों यक्ष्मा आदि रोगों को नष्ट कर मन और शरीर की पीड़ा को हटाते हुए दोषों से मुक्त करते हैं ।

  • पूजयेदशनं नित्यमद्याच्चैतद्कुत्सयन् ।

           दृष्ट्वा हृष्येत् प्रसीदेच्च प्रतिनन्देच्च सर्वशः ।।

                                                                  (मनुस्मृति 2/54)

अन्न का सदैव सम्मान करे, निन्दा न करते हुए उसका सेवन करें । उसे देखकर हर्षित हों, प्रसन्न हों  तथा सब प्रकार से उसकी प्रशंसा करें ।

  • बिनु अन्न दुखी सब लोग मरै ।

                                               (श्रीरामचरितमानस / उत्तराखंड 5)

अन्न के विना सब लोग दुःखी होकर मरते हैं ।