• अतिथिदेवो भव ।

                                (तैत्तिरीयोपनिषद् 1/11/2)

अतिथि देवस्वरीप होता है । उसकी पूजा देवपूजा कहलाती है । इसलिए अतिथि को देवता ही मानो ।

  • अज्ञातगोत्र नामानं अन्यग्रामादुपागतम् ।

          विपश्चितोअतिथिप्रहिर्विष्णुवत् तं प्रपूजयेत् ।।

                                                      (नारदपुराण / पूर्वभाग 27 / 73)

जिसका नाम और गोत्र पहले से ज्ञात न हो और जो दुसरे नगर या गांव से आया हो, ऐसे व्यक्ति को विद्वान पुरूष अतिथि कहते हैं । उसका भगवान विष्णु के समान पूजन करना चाहिए ।

  • अतिथिः पूजितो यस्य गृहस्थस्य तु गच्छति ।

          नान्यस्तस्मात्परोधर्म इति प्राहुर्मनीषिणः ।।

                                                        (महाभारत / अनुशासन पर्व 2/70)

मनीषी पुरुषों का ऐसा कहना है कि जिस गृहस्थ का अतिथि पूजित होकर जाता है, उसके लिए उससे बड़ा अन्य धर्म नहीं है ।

  • आवत ही हरषे नहीं नयनन नहीं सनेह ।

          तुलसी तहां न जाइए कंचन बरसे मेह ।।

                                                        (गोस्वामी तुलसीदास)

यदि अतिथि के आते ही आतिथेय प्रसन्न न हो और उसकी आंखों से स्नेह प्रकट न हो, तो तुलसीदासजी कहते हैं कि वहां नहीं जाना चाहिए, चाहे वहां पर सोने की ही वर्षा क्यों न होती हो ।

  • न वै स्वयं तदश्नीयादतिथिं यन्न भोजयेत् ।

          धन्यं यशस्यमायुष्यं स्वर्ग्यं वाअतिथिपूजनम् ।।

                                                               (मनुस्मृति 3/106)

जिस भोज्यपदार्थ को अतिथि को नहीम खिलाया हो , उस भोज्यपदार्थ को स्वयं कहीं खाना चाहिए । मतलब यह कि गृहस्थ स्वयं जैसा भोजन करे वैसा ही अतिथि को ङी दे । अतिथि का सत्कार – पूजन; धन, सौभाग्य, यश,आयु औऱ सुख को निरंतर बढ़ाने वाला है ।

  • पीठं दत्त्वा साधवेअभ्यागताय अनीयापः परिनिर्णिज्य पादौ ।

          सुखं पृष्ट्वा प्रतिवेद्यात्मसंस्थां ततो दद्यादन्नमवेक्ष्य धीरः ।।

                                                                 (महाभारत / उद्योपर्व 38/2)

महात्मा विदुर धृतराष्ट्र से कहते हैं कि राजन! धीर पुरूष को चाहिए कि जह कोई सज्जन अतिथि के रूप में घर आए, तो पहले आसन देकर एवं जल लाकर उसके चरण धोने चाहिए,  फिर उसकी कुशल-क्षेम पूछकर अपनी स्थिति बतानी चाहिए, तदुपरांत आवशयकता समझकर उसे भोजन कराना चाहिए ।

  • पादोदकं पादघृतं हीपमन्नं प्रतिश्रयम् ।

          प्रयच्छन्ति तु ये राजन् नोपसर्पन्ति ते यमम् ।।

                                                                                        (महाभारत / वनपर्व 200/23-24)

जो लोग अतिथि को चरण धोने के लिए जल, पैर की मालिश के लिए तेल, प्रकाश हेतु दीपक, भोजन के लिए अन्न और रहने के लिए स्थान देते हैं, वे कभी यमद्वार नहीं देखते यानी यमराज के यहाँ नहीं जाते ।

  • स्वागतेनाग्नयस्तुष्टा भवन्ति गृहमेधिनः ।

          आसनेन तु दत्तेन प्रीतो भवति देवराट् ।।

          पादशौचेन  पितरः प्रीतिमायन्ति दुर्भमाम् ।

          अन्नदानेन सुक्तेन तृप्तेन हि प्रजापतिः ।।

                                                        (हारीतस्मृति 57-58)

गृहस्थलोगों द्वारा अतिथि के स्वागत तथा आतिथ्य करने से अग्निदेव संतुष्ट होते हैं । अतिथि को बैठने के लिए आसन देने पर देवराज इंद्र प्रसन्न होते हैं । जब गृहस्थ अतिथि के चरण धोता है तो पितर अत्यन्त ही प्रीति प्राप्त करते हैं । मिले हुए अन्नदान से प्रजापति तृप्त होते हैं ।

  • जग्धपाप्मा यस्यान्नमश्नन्ति ।

                                                     (अथर्ववेद 9/7/8)

अतिथि- सत्कार करने वाले के समस्त पाप धुल जाते हैं ।

  • चक्षुर्दद्यान्मनो दद्याद् वाचं दद्याच्च सूनृताम् ।

          अनुव्रजेदुपासीत स यज्ञः पञ्चदक्षिणः ।।

                                                        (महाभारत / अनुशासनपर्व 7/6)

घर आए अतिथि को आप प्रसन्न दृष्टि से देखें । मन से उसकी सेवा करें । मीठी और सत्य वाणी बोलें । जब तक वह रहे उसकी सेवा में लगे रहें । जब वह जाने लगे, तो उसके पीछे कुछ दूर तक जाएं – यह सब गृहस्थ का पांच प्रकार की दक्षिणा से युक्त यज्ञ है ।

  • इष्टं च वा एष पूर्तं च गृहामामश्नाति यः पूर्वोअतिथेरश्नाति ।

          एष वा अतिथिर्यच्छ्रो त्रियस्तस्मात् पूर्वो नाश्नीयात् ।।

                                                                                               (अथर्ववेद 9/8/1,7)

जो मनुष्य अतिथि से पहले भोजन करता है, वह घर के इष्ट सुख और पूर्ण मनोरथ को गंवाता है, यानी नाश करता है । अतिथि श्रोत्रिय, वेद-विज्ञान होता है, इसलिए अतिथि के पूर्व भोजन नहीं करना चाहिए ।

  • अतिथिर्यस्य भग्नाशो गृहात् प्रमितनिवर्तते ।

          स दत्त्वा दुष्कृतं तस्मै पुण्यमादाय गच्छति ।।

                                                                (महाभरत / शान्तिपर्व 191/12)

जिस गृहस्थ के घर से अतिथि भूखा, प्यासा, निराश होकर वापस लौट जाता है, उस गृहस्थ की कुटुंब-संस्था (परिवार) नष्ट-भ्रष्ट हो जाती है । गृहस्थ महादुःखी हो जाता है, क्योंकि अपना पाप उसे देकर उसका संचित ‘पुण्य’ वह निराश अतिथि खींच ले जाता है । अतः सभी  को आतिथ्य धर्म का पालन करअपने कर्तव्य का निर्वाह करना चाहिए ।

  • सर्वस्यभ्यागतो गुरूः ।

                           (चाणक्यनीति 5/1)

अतिथि सबके गुरु होते हैं ।

  • यद् वा अतिथि पतिरतिथोन् प्रतिपश्यति देवयजनंपेक्षते ।।

                                                                              (अथर्ववेद 9/6(1)/3)

द्वार पर आये हुए अतिथि का स्वागत करना, देवताओं को आहुतियां देने के समान है ।