Category: गंगा मैया

0

शरद पूर्णिमा व्रत विधि, महत्व एवं खीर रखने का है विधान

इस बार 13 अक्टूबर 2019 को शरद पूर्णिमा के दिन चंद्रमा यानी कल सोलह कलाओं से परिपूर्ण होकर अमृत बरसाएगा। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार चंद्रमा साल भर में शरद पूर्णिमा...

0

माता अनुसूया की पौराणिक कथा

अत्रि ऋषि की पत्नी और सती अनुसूया की कथा से अधिकांश धर्मालु परिचित हैं। उन की पति भक्ति तो लोक प्रचलित और पौराणिक भी है। जिसमें त्रिदेव ने उनकी परीक्षा...

0

प्रदोष व्रत पूजा, अनुष्ठान, व्रत का महत्व एवं लाभ

प्रदोष व्रत को देश के विभिन्न हिस्सों में लोग पूरी श्रद्धा और समर्पण के साथ इस व्रत का पालन करते हैं। यह व्रत भगवान शिव और देवी पार्वती के सम्मान...

0

पापांकुशा एकादशी (Papankusha Ekadashi) की कथा, व्रत विधि एवं महत्व

पापांकुशा एकादशी (Papankusha Ekadashi) का हिन्‍दू धर्म में बड़ा महात्‍म्‍य है. इस दिन सृष्टि के रचयिता भगवान विष्‍णु की पूजा और मौन रहकर भगवद् स्मरण तथा भजन-कीर्तन करने का विधान...

0

प्रदोष व्रत ,पूजा महत्व

गुरुवार का दिन होने वाले प्रदोष व्रत को गुरु प्रदोष व्रत के नाम से जाना जाता है। हर माह के कृष्ण पक्ष और शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी को प्रदोष व्रत...

0

अश्विन माह की कृष्ण पक्ष की इंदिरा एकादशी का व्रत ,विधि और कथा

हिंदू पचांग के अनुसार अश्विन माह की कृष्ण पक्ष की एकादशी पितरों को मुक्ति दिलाने के लिए उत्तम मानी जाती है। इस एकादशी को इंदिरा एकादशी के नाम से भी...

0

श्री दुर्गा चालीसा (Shri Durga Chalisa )

नमो नमो दुर्गे सुख करनी। नमो नमो दुर्गे दुःख हरनी॥ निरंकार है ज्योति तुम्हारी। तिहूँ लोक फैली उजियारी॥ शशि ललाट मुख महाविशाला। नेत्र लाल भृकुटि विकराला॥ रूप मातु को अधिक...

0

श्राद्ध कब , क्यो और कैसे करें ,जाने कौन कर सकता है तर्पण

ओम आगच्छन्तु पितर एवं ग्रहन्तु जलान्जलिम हे पितरों! पधारिये पितरों तथा जलांजलि ग्रहण कीजिए। पितृपक्ष में पितर स्वर्ग से उतरकर धरती पर वाश करेंगे। इस बार सोलह के स्थान पर...

0

अजा एकादशी व्रत करने की विधि ,महत्व और कथा

घर में पूजा की जगह पर या पूर्व दिशा में किसी साफ जगह पर गौमूत्र छिड़ककर वहां गेहूं रखें। फिर उस पर तांबे का लोटा यानी कि कलश रखें। लोटे...

0

पुत्रदा एकादशी व्रत, कथा एवं महत्व ( क्या मिलता है फल जाने)

युधिष्ठिर ने  पूछा- हे भगवान! आपने कमदा  एकादशी का  महत्व बता कर हम बड़ी  कृपा की। अब कृपा करके यह बतलाइए कि सावन मास की  शुक्ल पक्ष की  एकादशी  क्या...